लोकमाता बनकर जन-जन के दिल में बसी हैं राजमाता अम्मा महाराज: मुख्यमंत्री

Madhya Pradesh News

राजमाता विजयाराजे सिंधिया जन्म शताब्दी वर्ष के शुभारंभ पर
ग्वालियर से दिल्ली महिला मैराथन रवाना
o मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती राहटकर ने दिखायी हरी झंडी
o जिला केन्द्रों पर आयोजित हुए कमल शक्ति सम्मेलन
ग्वालियर। यह वर्ष राजमाता सिंधिया का जन्म शताब्दी वर्ष है। मैं उनके चरणों में नमन करता हूं। अम्मा महाराज जन-जन के दिल में बसी हैं। वे राजमाता होते हुए भी लोकमाता बन गईं। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान

ने ग्वालियर में राजमाता विजयाराजे सिंधिया जन्म शताब्दी वर्ष के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के मुख्य समारोह में कही। कार्यक्रम में महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती विजया राहटकर, मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, श्रीमती माया सिंह, श्री जयभानसिंह पवैया, श्री नारायण सिंह कुशवाह, महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती लता ऐलकर आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम के पूर्व में मुख्यमंत्री श्री चैहान ने ग्वालियर में स्थित राजमाता विजयाराजे सिंधिया की छत्री पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री श्री चैहान एवं महिला मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती राहटकर ने महिला मैराथन को हरी झंडी दिखाकर दिल्ली के लिए रवाना किया।

ग्वालियर में आयोजित मुख्य कार्यक्रम के साथ ही जिला केंद्रों पर कमल शक्ति संवाद कार्यक्रम संपन्न हुए। जिसमें समाजसेवी, विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली बहनें शामिल हुई। सागर में पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री उमाश्री भारती, इंदौर में केन्द्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी, छिंदवाडा में केन्द्रीय मंत्री निरंजना ज्योति एवं राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती ज्योति धुर्वे, रीवा में उत्तरप्रदेश की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, जबलपुर में सांसद मीनाक्षी लेखी ने कमल शक्ति संवाद कार्यक्रम को संबोधित किया। इसी प्रकार जिला केन्द्रों पर आयोजित कार्यक्रम में पार्टी की महिला नेत्रियों ने संबोधित किया।।

उदार हृदय वाली सशक्त महिला थीं राजमाता

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के विकास में जनसंघ के समय से राजमाता का बहुत बड़ा योगदान रहा। अम्मा महाराज के कारण ही पूरे मध्य भारत में जनसंघ का झंडा फहराया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब नर्मदा में बाढ़ आई थी उस समय कांग्रेस की सरकार लोगों की मदद करने नहीं पहुंची, लेकिन पीड़ितों के आंसू पोंछने अम्मा महाराज आगे आईं। उन्होंने देश की सेवा के लिए अनेक संपत्तियां दान कीं। आपातकाल के दौरान कई लोगों ने समर्पण कर दिया, राजमाता सिंधिया ने जेल जाना मंजूर किया, लेकिन झुकी नहीं। ये इस बात का उदाहरण है कि उदार हृदय वाली राजमाता कितनी सशक्त महिला थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1982 में उनका दौरा हुआ उस समय मैं विद्यार्थी परिषद का कार्यकर्ता था। उस वक्त राजमाता को देखने के लिए लाखों लोगों की भीड़ पहुंची थी। अम्मा महाराज के लिए लोगों का प्यार देखकर मुझे भी प्रेरणा मिली। उनसे मेरे रिश्ते मां और बेटे की तरह थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी पूरे देश में अम्मा महाराज के जन्म शताब्दी वर्ष को अनेक कार्यक्रमों के माध्यम से मनाएगी।

बेटियों को सशक्त बनाकर पूरे करेंगे राजमाता के सपने

अम्मा महाराज का सपना मध्यप्रदेश के विकास और महिलाओं के उत्थान तथा सशक्तीकरण के लिए था। उन्हें हम साकार कर के दिखाएंगे। मुख्यमंत्री बनते ही बेटियों को सशक्त बनाने के लिए मैंने योजना बनाई। मैंने अपने अफसरों से कहा कि योजना ऐसी बनाओ के बेटी लखपति बन जाए। लाड़ली लक्ष्मी योजना प्रदेश में लागू की गई। बेटी पैदा होकर 21 साल की होगी तो उसको 1 लाख 18 हजार रुपया मिलेगा। मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अंतर्गत हमने लाखों विवाह कराए। कांग्रेस के शासनकाल में स्कूलों की संख्या बहुत कम थी और बेटियों को पढ़ने बहुत दूर जाना पड़ता था। हमने उन्हें साइकलें दीं और नए स्कूल बनवाए। बेटियों के उत्थान के लिए स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण कर दिया। आज मैं गर्व के साथ कह सकता हूं मेरी बहनें भी सत्ता चलाने में बढ़-चढ़कर अपनी भागीदारी निभा रही हैं। शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत, पुलिस तथा वन विभाग की भर्तियों में 35 प्रतिशत आरक्षण बेटियों को दिया जा रहा है। मेरी बहनें जब पुलिस में अपनी जिम्मेदारी निभाएंगी, तो अपराधियों का सीना छलनी कर देंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मासूम बालिकाओं से दुराचार करने वाले विकृत मानसिकता के लोगों को सीधा फांसी पर चढ़ान का कानून देश में सबसे पहले मध्यप्रदेश ने बनाया है। प्रदेश की महिलाओं के लिए गौरव की बात है कि प्रदेश के डिंडोरी जिले की धरती से एक बहन को संयुक्त राष्ट्र में भाषण देने बुलाया गया।

कांग्रेस के जमाने में तंदूर में जलती थीं महिलाएं, हम करते हैं बेटियों की पूजा

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस के जमाने में बहनों को काटकर तंदूर में जला दिया जाता था। आज भाजपा के शासन में बेटियों के अपराधियों को फांसी पर चढ़ाया जाता है। देश में आज मोदी जी का शासन है, महिला सशक्तिकरण के लिए मोदी जी ने अनेकों योजनाएं लागू की हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं हर काम से पहले बेटियों की पूजा करके ही काम शुरू करता हूं। हमने महिलाओं के लिए अनेक योजनाएं बनाई जिनका सीधा लाभ उनको दिया गया। प्रसूति योजना में 12 हजार मेरी बहनों के लिये दिये जा रहे हैं। उज्ज्वला योजना में मेरी बहनों को गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं।

बहनों ने लिया भाजपा को जिताने का संकल्प: राहटकर

सम्मेलन में उपस्थित बहनों को संबोधित करते हुए महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती विजया राहटकर ने कहा कि राजमाता जनसंघ की स्थापना के समय से ही संगठन से जुड़ गई थीं। उन्होंने उस समय में संगठन के लिए काम शुरू किया, जब महिलाएं राजनीति में नहीं आती थीं। उन्होंने पूरे देश को महिला सशक्तीकरण का विचार दिया। उद्घाटन भाषण देते हुए महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती लता एलकर जी ने कहा कि अम्मा महाराज ने देश को नई ऊर्जा प्रदान की। उनके विचार हम सभी के लिए प्रेरणादायक हैं। उनका महिला सशक्तीकरण को लेकर जो सपना था, वह आज साकार होता दिख रहा है। इस अवसर पर सम्मेलन में उपस्थित सभी बहनों ने संकल्प लिया कि हम सब मिलकर केंद्र और राज्य सरकार की जन हितैषी योजनाओं को लेकर जनता के बीच में जाएंगे और चैथी बार फिर से मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह जी की सरकार बनायेंगे।

महिला शक्ति की प्रतीक मैराथन को दिखाई हरी झंडी

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान ने स्व. राजमाता विजयाराजे सिंधिया के जन्म शताब्दी वर्ष के शुभारंभ के अवसर पर महिला शक्ति की प्रतीक मैराथन दौड़ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह दौड़ ग्वालियर में स्व. राजमाता की छत्री के समीप स्थित फ्लैग पाइंट से रवाना हुई। राजस्थान एवं उत्तरप्रदेश से गुजरते हुए यह दौड़ 16 अक्टूबर को दिल्ली पहुंचेगी। मैराथन के शुभारंभ के अवसर पर मिसेज यूनिवर्स अर्थ नवोमिता मजूमदार, मिसेज इंडिया अर्थ किरण राजपूत, पल्लवी कौशिक सहित सैकड़ों महिलाओं ने भाग लिया। कार्यक्रम में मंत्री श्रीमती यशोधराराजे सिंधिया, श्रीमती माया सिंह, श्री जयभानसिंह पवैया एवं श्री नारायणसिंह कुशवाहा उपस्थित थे।

राजमाता जी ने अपने कार्यो के बल पर अभूतपूर्व आदर्श स्थापित किया: उमा भारती

सागर। राजमाता स्व. विजयराजे सिंधिया के जन्म शताब्दी वर्ष के शुभारंभ पर आयोजित शक्ति संवाद कार्यक्रम में मुख्य वक्ता केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती ने कहा कि स्व. राजामाता विजयराजे सिंधिया ने अपने कार्यो के बल पर महिला शक्ति को बल देने के लिये अभूतपूर्व आदर्श स्थापित किया। उन्होंने देश की राजनीति में जनसंघ से लेकर भारतीय जनता पार्टी तक को शक्ति प्रदान कर कांग्रेस की गलत नीतियों का पुरजोर विरोध किया। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में पुरातन काल से नारी शक्ति के सम्मान की परम्परा रही है। नारी शक्ति के सम्मान को आगे बढ़ाते हुए राजमाता सिंधिया ने नारी शक्ति को पराक्रम एवं साहस के साथ कार्य करने का जज्बा दिया। कार्यक्रम में सांसद लक्ष्मीनारायण यादव जिला अध्यक्ष प्रभुदयाल पटैल, विधायक शैलेन्द्र जैन, प्रदीप लारिया, पारूल साहू, मीना ताई पिंपलापुरे, श्रीमती गायत्री यादव, महापौर अभय दरे, सुधीर यादव, श्वेता यादव, प्रीति नायक, तृप्ति बाबू सिंह, संध्या भार्गव, सुषमा यादव, लीना रैकवार, वंदना दुबे, शारदा कोरी, कल्पना पटेल सहित महिला मोर्चा पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।

राजमाता सच्चे अर्थो में लोकमाता थी: स्मृति ईरानी

इंदौर में आयोजित कमल शक्ति संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने कहा कि राजमाता वास्तविक अर्थो में लोकमाता थी। उन्होंने महलों की चार दीवारी से निकलकर गरीब और सर्वहारा वर्ग की सेवा करके मां का दर्जा पाया। उनका कार्य क्षेत्र बहुत विस्तारित था। वे जेल की महिला कैदियों के बच्चों को ठंड में स्वेटर और कपडों की चिंता तक करती थी। सर्वप्रथम विधवा महिलाओं का विवाह की पहल भी की। धर्म के प्रति निष्ठा और अध्यात्मिक चिंता करती थी।

उन्होंने महिलाओं से संवाद करते हुए महिला सुरक्षा, राजनीति में महिलाओं की सहभागिता जैसे अनेक सामाजिक विषयों पर चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा ही वह राजनैतिक दल है जिसने महिलाओं की राजनीति में सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित कर पुरूषों के समकक्ष लाकर खडा किया। इस बात का प्रत्यक्ष उदाहरण के रूप में 8 बार की सांसद और लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन, विधायक मालिनी गौड, उषा ठाकुर जैसी प्रदेश एवं केन्द्र में काम कर हमारी बहनें है।

राजमाता सिंधिया सच्चे अर्थों में भारत के जनतंत्र की रक्षक थीं: रीता बहुगुणा

रीवा। भाजपा महिला मोर्चा द्वारा राजमाता विजयराजे सिंधिया जन्म शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य में मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया। इसके उपरांत आयोजित महिला शक्ति संवाद कार्यक्रम में उत्तरप्रदेश की महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि राजमाता सिंधिया सच्चे अर्थों में भारत के जनतंत्र की रक्षक थीं। उन्होंने आपातकाल का जिस हिम्मत और जज्बे के साथ विरोध किया और पूरे देश में उसकी अगुवाई की उससे उनके प्रति पूरे देश के जनमानस में अपार स्नेह और श्रद्धा का भाव जागृत हुआ। प्रदेश के उद्योग मंत्री राजेंद्र शुक्ला ने राजमाता सिंधिया को जन-जन की श्रद्धा का केंद्र बताते हुए कहा कि जिस कठिन मार्ग पर चलते हुए उन्होंने भारतीय जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को सिंचित कर खड़ा किया है, उसी का परिणाम है कि मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी लगातार विजय प्राप्त कर रही है। कार्यक्रम में भाजपा जिलाध्यक्ष विद्या प्रकाश श्रीवास्तव महापौर श्रीमती ममता गुप्ता सहित महिला मोर्चा प्रदेश महामंत्री प्रज्ञा त्रिपाठी उपस्थित रहे।

राजमाता से कार्यकर्ताओ को अपनत्व और मातृत्व मिला: मीनाक्षी लेखी

जबलपुर। कार्यकर्ताओ के प्रति अपनत्व और मातृत्व भाव रखने वाली और संगठन को खड़ा करने में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखने वाली राजमाता विजयराजे सिंधिया हम सभी महिलाओ की आदर्श है। यह बात भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता व सांसद श्रीमती मीनाक्षी लेखी ने जबलपुर के मानस भवन में आयोजित कमल शक्ति सम्मेलन में कही।

श्रीमती लेखी ने कहा कि मध्यप्रदेश रानी दुर्गावती, रानी अहिल्या बाई और राजमाता विजयराजे जैसी देवियो को धरती है और हमे इस बात पर गर्व है कि हमारी नेता रही राजमाता सिंधिया ने कांग्रेस के खिलाफ जो संघर्ष किया और संगठन को खड़ा किया वो पूरे देश मे फैला और आज कांग्रेस लगभग समाप्त की स्थिति में है। उन्होंने कहा कि राजमाता रानी होते हुए भी आम महिला थी इसलिए उन्हें आम जनता का दर्द पता था। उन्होंने कांग्रेस के शासन में चकबन्दी, जिलाबन्दी और परमिट प्रथा का विरोध भी किया। आपातकाल में जेल में रही और लाठियां भी खाई किन्तु अपने सिद्धांतों से समझौता नही किया। उन्होंने उपस्थित महिलाओं से आव्हान करते हुए कहा कि राजमाता जी की जयंती के साथ नवरात्रि का महापर्व चल रहा है और शक्ति के इस पर्व पर हम सभी बहिने मिलकर संकल्प ले कि पुनः भाजपा की सरकार बनाने में योगदान देंगे और राजमाता विजयाराजे जी के जीवन चरित्र को आत्मसात करेंगे। महापौर डॉ स्वाति गोडबोले ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

कार्यक्रम के दौरान नौ ऐसी कन्याओं एवं महिलाओ का सम्मान किया गया जिन्होंने देश, समाज के लिए विशिष्ट योगदान दिया है। कार्यक्रम में पूर्व सांसद जयश्री बैनर्जी, पूर्व महापौर सुशीला सिंह, प्रभा यादव, विजय कांति रावत, एडवोकेट निर्मला नायक, तृष्णा चटर्जी विधायक प्रतिभा सिंह, नंदनी मरावी, एलबी लोबो, जिला पंचायत अध्यक्ष मनोरमा पटेल सहित बडी संख्या में महिलाएं उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष सुषमा जैन एवं आभार नगर अध्यक्ष अश्वनी परांजपे ने किया।

राजमाता जी हमारा आदर्श: निरंजना ज्योति

छिंदवाड़ा। केन्द्रीय मंत्री साध्वी निरंजना ज्योति ने कमल शक्ति संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति में नारी शक्ति का स्वरूप है। परिश्रम और पराक्रम के बल पर एक आदर्श स्थापित किया। राजमाता सिंधिया जी एक ऐसा ही आदर्श की प्रतिमूर्ति है। जिन्होंने न सिर्फ महिलाओं के लिए बल्कि समाज के दीन हीन और अंतिम पंक्ति के व्यक्ति के लिए महलों का वैभव छोड दिया। सच्चे अर्थो में राजमाता ने लोकमाता दर्जा पाया। उन्होंने कहा कि नारी शक्ति राजमाता जी के जन्म शताब्दी वर्ष में यह संकल्प ले कि उनके आदर्शो को आत्मसात कर साहस और कठोर परिश्रम के बल पर पराक्रम के साथ लक्ष्य निर्धारित करें तो निश्चित रूप से 21 वी सदी महिलाओं की होगी।

कमल शक्ति कार्यक्रम को पार्टी की राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती ज्योति धुर्वे ने भी संबोधित करते हुए कहा कि राजमाता जी ने जीवन पर्यन्त अपने आदर्शो से कभी समझौता नहीं किया और यही कारण है कि राजमाता जी ने लोकमाता के रूप में ख्याति प्राप्त की। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं को संकल्प दिलाते हुए चैथी बार भाजपा की सरकार को प्रचंड बहुमत दिलाने के लिए प्राणपण से जुट जाने का आव्हान किया। कार्यक्रम में प्रदेश मंत्री श्री कन्हाईराम रघुवंशी, महापौर श्रीमती कांता सदारंग, जिला अध्यक्ष श्री नरेन्द्र परमार, श्री रमेश पोफली, श्रीमती प्रीति बिसेन, श्रीमती कांता ठाकुर सहित विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में काम करने वाली बहनें उपस्थित थी।

उज्जैन। जिला उज्जैन द्वारा राजमाता विजयाराजे जी सिंधिया की जन्म शताब्दी वर्ष के अवसर पर उज्जैन के माधव सेवा न्यास में महिला मोर्चा द्वारा कमल शक्ति सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में महिला मोर्चा की प्रदेश प्रभारी श्रीमती कृष्णा गौर, मंत्री श्री पारस जैन, सांसद श्री चिंतामणि मालवीय, श्रीमती कलावती यादव, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, नगर जिला अध्यक्ष रजनी उपाध्याय, जिला अध्यक्ष श्री विवेक जोशी सहित मोर्चा की बहनें एवं पदाधिकारी शामिल हुए।

Leave a Reply