Warning: Error while sending QUERY packet. PID=813723 in /home/todayin/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1924
राम मंदिर निर्माण को लेकर रामलीला मैदान में धर्म-संसद, देश की भवनाओं को समझे SC- भैयाजी जोशी – टूडे इंडिया

राम मंदिर निर्माण को लेकर रामलीला मैदान में धर्म-संसद, देश की भवनाओं को समझे SC- भैयाजी जोशी

रविवार, 9 दिसंबर 2018
नई दिल्ली । दिल्ली में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की धर्मसभा में संघ के सरकार्यवाहक भैय्याजी जोशी ने कहा कि
सत्ता में बैठे लोगों को जनभावनाओं का सम्मान करना चाहिए। राम मंदिर की भीख नहीं मांगी जा रही है, सरकार को कानून बनाना चाहिए।
जोशी ने कहा कि न्यायालय की प्रतिष्ठा बनी रहनी चाहिए। जिस देश में न्यायालय में विश्वास घटता है, उसका उत्थान होना असंभव है। इसलिए न्यायालय को भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। देश पर हमला करने वालों के निशान मिटने चाहिए।

भैयाजी जोशी ने कहा कि सत्ता में बैठे लोगों ने भी घोषणा की है कि मंदिर वहीं बनाएंगे, अब संकल्प पूरा करने का समय आ गया है। बिना झिझक के उन्हें इसे पूरा करना चाहिए।’ संघ सरकार्यवाहक ने कड़े शब्दों में कहा कि सत्ता में बैठे लोगों को जनभावनाओं का सम्मान करना चाहिए। हमारा किसी के साथ संघर्ष नहीं, राम राज्य में ही शांति आती है।
संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से शुरू होगा और इसी दिन दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा की कार्रवाई भी शुरू होगी। दिल्ली पुलिस ने वीएचपी की विशाल जनसभा को देखते हुए रामलीला मैदान में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए हैं। दिल्ली पुलिस ने धर्म संसद के मद्देनजर यातायात की कुछ पाबंदिया लगाई है और नागरिकों के लिए परामर्श भी जारी किए हैं।

पुलिस सूत्रों का कहा, परिस्थिति को देखते हुए यातायात के मार्गों में परिवर्तन किया जा सकता है। इसके मद्देनजर आम नागरिकों से अपील की जाती है कि कुछ निश्चित मार्गों का प्रयोग करने से बचें। वीएचपी ने हाल ही में 06 दिसंबर को बाबरी मस्जिद ढांचे को ढहाने की याद में ‘शौर्य दिवस’ भी मनाया था।

वीएचपी ने धर्म संसद को सफल बनाने के लिए राजधानी दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में घर-घर जाकर इसका प्रचार कर रही है और साथ ही अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण को लेकर ठोस कदम उठाने के लिए केंद्र की मोदी सरकार पर दबाव भी बना रही है।
======================
Courtesy

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *