प्रदेश में 26 जनवरी से भू-अधिकार अभियान चलाया जाएगा-मुख्यमंत्री चौहान

Latest

आदिवासी समाज से नशे का त्याग करने की अपील
सनकोटा आदिवासी सम्मेलन एवं शिवपंथी सत्संग मेले में मध्य रात्रि तक रूके मुख्यमंत्री
भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 24, 2017
मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आगामी 26 जनवरी से प्रदेश में भू-अधिकार अभियान चलाया जाएगा। अभियान के दौरान सभी पात्र भूमिहीनों को रहने की जमीन का अधिकार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 तक प्रदेश में पात्र आवासविहीन परिवारों को पक्के आवास दिये जाएंगे। मुख्यमंत्री ने गुरुवार को सीहोर जिले की नसरुल्लागंज तहसील के ग्राम सनकोटा में आदिवासी सम्मेलन, नशामुक्ति अभियान एवं शिवपंथी सत्संग मेले को संबोधित करते हुए यह घोषणा की। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान भी सम्मेलन में उपस्थित रहीं।

श्री चौहान ने सम्मेलन में चरण पादुका अभियान, पोषण आहार वितरण तथा गणवेश निर्माण योजना की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पोषण आहार तथा गणवेश निर्माण का कार्य स्थानीय महिला स्व-सहायता समूह के माध्यम से करवाया जाएगा। इस कार्य के लिए समूह के सदस्यों को आवश्यकता अनुसार प्रशिक्षण दिलाने की व्यवस्था भी की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अनमोल मानव जीवन का दुश्मन है नशा। समाज की तरक्की के लिए नशे से दूर रहना पहली आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने आदिवासी समाज को नशा त्यागने की शपथ भी दिलाई।

ग्राम सनकोटा में खुलेगा शासकीय हाई स्कूल

मुख्यमंत्री ने राज्य शासन की नि:शुल्क शिक्षा, गणवेश, स्मार्ट फोन और मेधावी छात्र योजना की जानकारी देते हुए आदिवासी समाज से अपील की कि बच्चों को स्कूल भेजें, शिक्षा की पूरी व्यवस्था राज्य सरकार कराएगी। बालक-बालिकाओं के लिए नवीन छात्रावास का निर्माण भी करवाया जाएगा। श्री चौहान ने ग्राम सनकोटा में आगामी शिक्षा सत्र से शासकीय हाई स्कूल शुरू करने की घोषणा की।

ग्रामोद्योग मंत्री श्री अन्तर सिंह आर्य और श्री रमेश बारेला, श्रीमती निर्मला बारेला तथा श्री सुनील बारेला विशेष रूप से उपस्थित थे। गुरू श्री कालूसिंह, माताजी सुमली बाई सहित अन्य गुरू तथा मार्कफेड के अध्यक्ष श्री रमाकांत भार्गव, वन विकास निगम के अध्यक्ष श्री गुरू प्रसाद शर्मा, अन्य जन-प्रतिनिधियों के साथ बड़ी संख्या में विभिन्न जिलों से पहुँचे बारेला आदिवासी वर्ग के लोग मौजूद थे।

शिवराज सिंह चौहान को दिल से चाहते हैं बारेला आदिवासी

बारेला समाज के ओमप्रकाश बारेला, बावडीखेड़ा प्राथमिक शाला में शिक्षक हैं। वे बताते हैं कि समाज में पहले नशे को बुराई नहीं माना जाता था। हर नौजवान नशा करता था। पिछले पांच सालों में काफी परिवर्तन आया है। नौजवानों ने शराब को त्यागने का संकल्प लिया है। समाज के पढ़े-लिखे लोग खुद आगे आकर समाज को सुधारने का संकल्प लेकर काम कर रहे हैं। हर साल बड़ा आयोजन कर समाज के मुखिया महाराज कालूबाबा के मार्गदर्शन में दूध पिलाकर शराब से दूर रहने का संकल्प दिलाते हैं।

चकल्दी ग्राम पंचायत के सचिव राकेश बारेला कहते हैं कि नशामुक्ति अभियान पिछले काफी समय से चलाया जा रहा है। बड़वानी, सेंधवा से इस अभियान की शुरूआत हुई थी। अब प्रदेश में जहाँ-जहाँ बारेला समाज के लोग रहते हैं, वहाँ हम कार्यक्रम करते हैं। इससे समाज के नजरिये में काफी सुधार दिख रहा है। हम बारेला समाज के युवाओं के आदर्श हैं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। हमसे स्नेह रखते हैं और हम भी उन्हें दिल से चाहते हैं। उनकी नशामुक्त समाज बनाने की बात का भी समाज पर बहुत असर हुआ है।

शेर सिंह बारेला समाज के बीच रहकर जन-जागरण का काम करते हैं। पेशे से वे प्रेरक शिक्षक हैं और लाड़कुई प्राथमिक शाला से जुड़े हैं। वे बताते हैं कि बारेला समुदाय में भगवान शिव के प्रति बहुत आस्था है लेकिन नशे का भी चलन था। अब बहुत परिवर्तन आया है। वे कहते हैं कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बारेला समाज के बीच में आना और नशामुक्ति की बात करना भी हमारे लिये बहुत बड़ी बात है। आयोजन से जुड़े सुनील बारेला बताते हैं कि समाज में हर साल शिवपंथी सत्संग मेले का आयोजन किया जाता है। पहली बार यह रफीकगंज ग्राम पंचायत के सनकोटा गांव में हो रहा है। बारेला समाज में खरीफ फसलों के पकने और कटने पर नाग दीवाली मनाने की परंपरा है। पिछले साल यह कार्यक्रम खरगोन जिले की भगवानपुरा तहसील के गाँव पिपलझोला में हुआ था।

Leave a Reply