• Mon. Jun 17th, 2024

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले में बलिदान देने वाले बहादुरों को याद किया, कहा – भारत, आतंकवाद को दृढ़ता से कुचल रहा है

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले में बलिदान देने वाले बहादुरों को याद किया, कहा – भारत, आतंकवाद को दृढ़ता से कुचल रहा है
narendramodi,mankibaat,mumbaiterrorattack,terrorattack

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज उन लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की जो 26 नवंबर 2011 के मुंबई आतंकी हमलों में वीरगति को प्राप्‍त हुए थे। आकाशवाणी पर मन की बात कार्यक्रम में श्री मोदी ने कहा कि देश 26 नवंबर को कभी नहीं भूल सकता क्योंकि उस दिन राष्‍ट्र पर सर्वाधिक खतरनाक आतंकी हमला हुआ था। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत का सौभाग्‍य है कि अब पूरे हौसले के साथ आतंक को कुचला जा रहा है। उन्‍होंने कहा कि देशवासी उन वीरों को याद करते हैं जिन्‍होंने आतंकी हमले के दौरान सर्वोच्च बलिदान दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि 26 नवम्‍बर का दिन इसलिए भी महत्‍वपूर्ण है कि 1949 में इसी तिथि को संविधान सभा ने भारत के संविधान को अंगीकार किया था। उन्‍होंने कहा कि 2015 में बाबा साहेब आम्‍बेडकर की 125वीं जयंती के अवसर पर सरकार ने 26 नवम्‍बर को संविधान दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था। उन्‍होंने संविधान दिवस के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री ने विश्‍वास व्‍यक्त किया कि राष्‍ट्र एकजुट होकर नागरिकों के कर्तव्‍यों को प्राथमिकता देते हुए निश्चित रूप से विकसित भारत का प्रण पूरा करेगा।

श्री मोदी ने कहा कि संविधान को बनाने में दो वर्ष ग्‍यारह महीने और अट्ठारह दिन का समय लगा था। संविधान सभा के सबसे बुजुर्ग सदस्‍य सच्चिदानंद सिन्‍हा थे। 60 देशों के संविधानों का अध्‍ययन करने के बाद भारत के संविधान का प्रारूप तैयार किया गया था। प्रधानमंत्री ने कहा कि मसौदा तैयार होने के बाद उसमें दो हजार संशोधन किये गये जिसके उपरांत संविधान की अंतिम संरचना तैयार हुई। उन्होंने कहा कि संविधान 1950 में लागू हुआ जिसे अब तक कुल एक सौ छह बार संशोधन किया गया है। उन्‍होंने कहा कि समय, परिस्थितियों और देश की आवश्यकताओं के अनुरूप विभिन्‍न सरकारों ने समय-समय पर संविधान में संशोधन किये।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि संविधान के प्रथम संशोधन में बोलने और अभिव्‍यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार कम कर दिये गये। उन्‍होंने कहा कि 44वें संशोधन के जरिये आपातकाल की उस गल्‍ती को ठीक कर दिया गया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि संविधान सभा के सदस्‍यों में 15 महिलाओं को मनोनीत किया जाना प्रेरणादायक था। उन्‍होंने कहा कि हंसा मेहता भी संविधान सभा की सदस्‍य थी जिन्‍होंने महिलाओं के अधिकारों और न्‍याय के लिए आवाज उठाई। उन्‍होंने कहा कि उस दौरान भारत दुनिया के उन गिने चुने देशों में से एक था जहां संविधान में महिलाओं को मताधिकार दिया गया था।

प्रधानमंत्री ने संतोष व्‍य‍क्‍त किया कि संविधान निर्माताओं की दूरदृष्टि के अनुरूप संसद में अब नारी शक्ति वंदन विधेयक पारी किया गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि नारी शक्ति वंदन अधिनियम विकसित भारत के संकल्‍प को गति देने में सहायक होगा।

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के व‍िभिन्‍न नृत्‍य हमारी विरासत है। उन्‍होंने कह‍ा कि झारखण्‍ड, ओडीसा और बंगाल में छऊ नृत्‍य अत्यधिक प्रसिद्ध है। एक भारत, श्रेष्‍ठ भारत की भावना के साथ 15 से 17 नवम्‍बर तक श्रीनगर में छऊ पर्व का आयोजन किया गया। श्रीनगर के युवाओं को छऊ नृत्‍य सिखाने लिए कार्यशाला का आयोजन भी किया गया। प्रधानमंत्री ने कहा कि जम्‍मू से डेढ सौ किलोमीटर दूर कठुआ जिले में कुछ सप्‍ताह पहले बसोहली उत्‍सव आयोजित किया गया। इस उत्‍सव में स्थानीय कला लोकनृत्‍य और पारम्‍परिक रामलीला का आयोजन हुआ। श्री मोदी ने कहा कि भारतीय संस्कृति की सुन्‍दरता को सउदी अरब में भी अनुभव किया गया। इसी महीने सउदी अरब में संस्‍कृत उत्‍सव आयोजित किया गया। यह अनूठा कार्यक्रम पूरी तरह संस्‍कृत में था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्‍वच्‍छता अभियान अब पूरे देश का प्रिय विषय बन गया है। उन्‍होंने कहा कि इस अभियान ने साफ-सफाई और सर्वजनिक स्‍वच्‍छता के बारे में लोगों की सोच बदल दी है। उन्‍होंने कहा कि यह पहल अब राष्‍ट्रीय भवना का प्रतीक बन चुकी है और इसने करोडों देशवासियों के जीवन को बेहतर बनाया है।

श्री मोदी ने कहा कि स्‍वच्‍छता अभियान ने अलग-अलग क्षेत्र के लोगों- विशेषकर युवाओं को सामूहिक भागीदारी के लिए प्रेरित किया है। उन्‍होंने युवाओं की टीम भावना का उदाहरण दिया जिन्‍होंने प्रोजेक्‍ट सूरत की शुरूआत की और सूरत को मॉडल शहर बनाने तथा साफ-सफाई और टिकाऊ विकास का उदाहरण बनाने का संकल्‍प लिया। इस प्रयास के तहत सूरत के युवाओं ने सार्वजनिक स्‍थानों और डुमास बीच की सफाई से शुरुआत की बाद में यह टीम तापी नदी के किनारों की सफाई में जी-जान से जुटी और देखते ही देखते इस टीम ने लाखों किलो कचरा हटाया। प्रधानमंत्री ने कहा कि जमीनी स्‍तर पर किये गये ऐसे प्रयास बहुत बडा बदलाव लाते हैं।

प्रधानमंत्री ने गुजरात का एक और उदाहरण दिया। कुछ सप्‍ताह पहले अम्‍बाजी में भादरवी पूनम मेले को आयोजन किया गया था जिसमें पचास लाख से ज्‍यादा लोग आये। यह मेला प्रति वर्ष आयोजित किया जाता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस मेले की सबसे खास बात ये रही कि लोगों ने गब्‍बर हिल के बडे हिस्‍से में सफाई अभियान चलाया। उन्होंने कहा कि मंदिरों के आस-पास पूरे क्षेत्र को स्‍वच्‍छ रखने का यह अभियान बहुत प्रेरणादायी है।

प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु के कोयम्‍बटूर निवासी लोगानाथन का उदाहरण दिया। उन्‍होंने गरीब बच्‍चों की मदद का प्रण लिया और अपनी कमाई का एक हिस्‍सा दान देना शुरू कर दिया। जब लोगानाथन को पैसे की कमी हुई तो उन्‍होंने इन बच्‍चों की सहायता के लिए शौचालय तक साफ किये। प्रधानमंत्री ने पिछले पच्‍चीस वर्ष से पूरे समर्पण के साथ गरीब बच्‍चों की मदद के प्रयास में जुटे लोगानाथन की सराहना की। उन्‍होंने कहा‍ कि लोगानाथन एक हजार पांच सौ से अधिक बच्‍चों की सहायता कर चुके हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जल सुरक्षा 21वीं सदी की बहुत बडी चुनौतियों में से एक है। जल संरक्षण पर बल देते हुए उन्‍होंने कहा कि देश के प्रत्‍येक जिले में अमृत सरोवर बनाये जा रहे हैं। श्री मोदी ने कहा कि अमृत महोत्‍सव के दौरान भारत में 65 हजार से अधिक अमृत सरोवर बनाये गये जो आने वाली पीढियों को लाभ देंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि जहां-जहां अमृत सरोवर बने हैं उनकी निरंतर देखभाल करना और उन्‍हें जल संरक्षण का प्रमुख स्रोत बनाये रखना हम सबका दायित्‍व है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि गुजरात के अमरेली में जल उत्‍सव का आयोजन चर्चा का केन्‍द्र रहा। जल उत्‍सव के दौरान लोगों को जल संरक्षण और झीलों के संरक्षण में बारे में जागरूक करने का प्रयास किया गया। इस दौरान जलीय खेलों को बढावा दिया गया और जल सुरक्षा विशेषज्ञों के साथ चर्चा की गई। इस प्रयास में शामिल सभी लोगों को बधाई दी और जल संरक्षण के लिए ऐसे कार्य करने की शुभकामनाएं दी।

प्रधानमंत्री ने कौशल विकास के महत्‍व पर बल देते हुए आन्‍ध्रप्रदेश के श्रीकाकुलम की संस्‍था बेल्‍जीपुरम यूथ क्‍लब का उदाहरण दिया। यह यूथ क्‍लब कौशल विकास पर ध्‍यान दे रहा है और इस ने लगभग सात हजार महिलाओं को सशक्‍त बनाया है। इस क्‍लब ने बच्‍चों को भी कोई न कोई हुनर सिखा कर उन्‍हें बाल मजदूरी के दुश्‍चक्र से निकालने में मदद की है। प्रधानमंत्री ने कहा कि बेल्‍जीपुरम यूथ क्‍लब ने किसान उत्‍पादक संगठनों से जुडे किसानों को नये कौशल सिखाये और यह प्रत्‍येक गांव को स्‍वच्‍छता के बारे में जागरूकता फैला रहा है।

प्रधानमंत्री ने लद्दाख से प्रेरक उदाहरण भी दिया उन्होंने क‍हा कि लूम्‍स ऑफ लद्दाख के नाम से प्रसिद्ध लद्दाखी पश्‍मीना दुनिया भर के बाजारों में पहुंच रहा है। 15 गांवों की 450 से अधिक महिलाएं लद्दाखी पश्‍मीना की बुनाई करती है। उन्‍होंने कहा कि देश के स्थानीय उत्पाद अब वैश्विक बन रहे हैं और इन महिलाओं की कमाई बढ रही है। प्रधानमंत्री ने लोगों से इस तरह की सफलता की गाथाएं साझा करने का आग्रह किया ताकि देश के अन्‍य लोगों को भी इनका पता चले।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मन की बात कार्यक्रम की एक उपलब्धि यह भी है कि इसने रेडियो को घर-घर में और अधिक लोकप्रिय बना दिया है। उन्‍होंने कहा कि उत्‍तर प्रदेश के अमरोहा निवासी राम सिंह बौद्ध ने माई गव पर पत्र लिखा है। उन्होंने बताया‍कि वे पिछले कई दशकों से रेडियो संग्रह कर रहे हैं। राम सिंह ने लिखा कि मन की बात के बाद उनके रेडियो म्यूजियम के प्रति लोगों की उत्सुकता बढी है।

श्री मोदी ने कहा कि मन की बात से प्रेरित होकर अहमदाबाद के निकट तीर्थ धाम प्रेरणा तीर्थ ने दिलचस्प प्रदर्शनी लगाई। इस दौरान सौ से अधिक विशिष्‍ट रेडियो प्रदर्शित किये गये। प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे अनेक उदाहरण हैं जिनसे पता चलता है कि लोग मन की बात से कितने प्रेरित हुए और अपने उद्यम शुरू किये। उन्होंने कनार्टक के चामराजनगर की वर्षा का उदाहरण दिया जिन्होंने मन की बात से प्रेरित होकर केले से जैविक खाद बनाने का कार्य शुरू किया।

 

प्रधानमंत्री ने लोगों को देव दीपावली की भी बधाई दी। उन्‍होंने कहा कि कल काशी के घाटों पर लाखों दीपक जलाये जायेंगे और भव्‍य आरती तथा लेजर शो होगा। श्री मोदी ने प्रकाश पर्व से पहले गुरू नानक देव को भी यादव किया। उन्‍होंने कहा कि गुरू नानक का सन्‍देश आज भी प्रेरक और प्रासंगिक है।
=======================================Courtesy=====================
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले में बलिदान देने वाले बहादुरों को याद किया, कहा – भारत, आतंकवाद को दृढ़ता से कुचल रहा है
narendramodi,mankibaat,mumbaiterrorattack,terrorattack

 

 

 

 

aum

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *