• Thu. Feb 9th, 2023

शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों की स्वाभाविक प्रतिभा को प्रकट करना : मुख्यमंत्री चौहान

शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों की स्वाभाविक प्रतिभा को प्रकट करना : मुख्यमंत्री चौहान
#madhyapradeshnewsdiary,#shivrajsinghchouhan,#mpcm,#mpnews,#madhyapradeshnews,#todayindia,#todayindia24,#todayindialiveबच्चों की कलाकृतियाँ देख कर अभिभूत हूँ
प्रदेश में नई शिक्षा प्रणाली लागू हुई है, शिक्षा के क्षेत्र में नया इतिहास रचेंगे
वह दिन भी आयेगा जब लोग निजी स्कूलों से अपने बच्चों को निकाल कर सरकारी स्कूलों में डालेंगे
प्रदेश में 50 हजार शिक्षकों की होगी भर्ती
मुख्यमंत्री चौहान सपत्नीक “अनुगूंज कार्यक्रम में शामिल हुए
विद्यार्थियों की प्रस्तुतियों का आनंद लिया और सराहा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि विद्यार्थियों की स्वाभाविक प्रतिभा को प्रकट करना शिक्षा का उद्देश्य और शिक्षकों का धर्म है। स्कूल शिक्षा का “अनुगूंज” कार्यक्रम इस उद्देश्य को बखूबी पूरा करता है। यहाँ पर लगाई गई प्रदर्शनी में बच्चों की कलाकृतियाँ देख कर मैं अभिभूत हूँ। उनके द्वारा बनाये गये मिट्टी के खिलौने, पेंटिंग्स, फोटोग्राफ्स और अन्य कलाकृतियाँ अद्भुत हैं। ये बच्चे श्रेष्ठ फोटोग्राफर, कलाकार, वैज्ञानिक, संगीतकार आदि बनेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान सोमवार को शासकीय सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में स्कूल शिक्षा विभाग के दो दिवसीय “अनुगूंज” कार्यक्रम के समापन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नई शिक्षा प्रणाली लागू हुई है। हम शिक्षा के क्षेत्र में नया इतिहास रचेंगे। पहले मध्यप्रदेश शिक्षा के क्षेत्र में देश में 17वें स्थान पर था, अब 5वें स्थान पर आ गया है। मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूलों के बच्चे हर क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में वह दिन भी आयेगा जब लोग अपने बच्चों को निजी स्कूलों से निकाल कर सरकारी स्कूलों में डालेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में शीघ्र ही स्कूल शिक्षा एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग में 50 हजार शिक्षकों की भर्ती होगी। इन्हें सम्मानजनक पारिश्रमिक एवं अन्य सुविधाएँ दी जायेंगी। अगले 3 वर्षों में सीएम राइज स्कूल अन्य विद्यालयों को मात कर देंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विद्यार्थियों से कहा कि बच्चे बड़े से बड़ा काम कर सकते हैं। स्वामी विवेकानंद जी कहते थे कि हम साधारण मानव नहीं, ईश्वर के अंश हैं, अनंत शक्तियों के भण्डार हैं। अपनी शक्तियों को पहचानो। शिक्षा व्यक्ति की आंतरिक क्षमता को प्रकट करने का अवसर प्रदान करती है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में 12वीं कक्षा में 75 प्रतिशत और उससे अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थियों को लेपटॉप दिया जा रहा है, साथ ही ऐसे विद्यार्थियों को विभिन्न प्रोफेशनल कोर्सेस में प्रवेश पर उनकी उच्च शिक्षा की फीस भी सरकार भर रही है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अभिभावकों से कहा कि वे बच्चों को केवल पढ़ाई के लिये ही न कहे, बल्कि उनकी रूचि अनुसार खेल-कूद एवं कला के क्षेत्र में भी प्रेरित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बच्चों के साथ मिल कर नारे लगाये- “हम खेलेंगे कूदेंगे-आसमान को छू लेंगे हम पढ़ेंगे-लिखेंगे आसमान को छू लेंगे।”

सीहोर जिले में शिक्षक कर रहे हैं अनूठा नवाचार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुझे यह बताते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि सीहोर जिले के शिक्षक मिल कर एक अनूठा नवाचार कर रहे हैं। उनके द्वारा यह संकल्प लिया गया है कि जिले के सभी शासकीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लॉस बने। इसके लिये शिक्षक अपने स्तर पर राशि एकत्र कर रहे हैं और ग्रामीणों से भी मदद ले रहे हैं। उनका प्रयास है कि बिना सरकारी मदद के सभी स्कूलों में टेलीविजन लगा कर स्मार्ट क्लॉस बनाई जाये। यह एक क्रांति है और शिक्षकों की ललक है, जो सरकारी स्कूलों में शिक्षा को आगे बढ़ा रहे हैं।

स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि अनुगूँज कार्यक्रम से सरकार कला और शिक्षा को जोड़ कर आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है। हमारे बच्चों की प्रतिभाओं का विकास हो रहा है और वे राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित हो रहे हैं। अपनी कला से मध्यप्रदेश के विद्यार्थी एक भारत, श्रेष्ठ भारत का संदेश पूरे देश में पहुँचा रहे हैं। इस वर्ष से संभाग स्तर पर भी यह कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है। उन्होंने विद्यार्थी विनीत गायत्री सिंह (नृत्य), जान्हवी राघव (नाट्य कला), अभय खरे (नाट्य कला) की कला की सराहना की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया। इसके पूर्व उन्होंने प्रदर्शनी में विद्यार्थियों की कलाकृतियों को देखा और सराहा। उन्होंने विद्यार्थियों से बातचीत भी की। अनुगूँज कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने आकर्षक प्रस्तुतियाँ दी, जिन्हें मुख्यमंत्री सहित उपस्थितजन ने सराहा। अतिथियों का स्वागत प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी ने किया। आयुक्त लोक शिक्षण श्री अभय वर्मा ने आभार माना। मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह, भोपाल महापौर श्रीमती मालती राय, विधायक श्रीमती कृष्णा गौर और नगर निगम भोपाल के सभापति श्री किशन सूर्यवंशी सहित शिक्षक एवं बड़ी संख्या में विद्यार्थी उपस्थित थे।
=============================================
शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों की स्वाभाविक प्रतिभा को प्रकट करना : मुख्यमंत्री चौहान
#madhyapradeshnewsdiary,#shivrajsinghchouhan,#mpcm,#mpnews,#madhyapradeshnews,#todayindia,#todayindia24,#todayindialive

aum

Leave a Reply

Your email address will not be published.