देश-प्रदेश की तकदीर बदल देंगे भोपाल और दिल्ली के डबल इंजनः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Madhya Pradesh News

कांग्रेस बांटो, लड़ाओ और अपना उल्लू सीधा करो की राजनीति करती है
प्रधानमंत्री ने माता अहिल्या बाई को बताया जीवंत प्रेरणा स्रोत
इंदौर। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मालवा-निमाड़ की धरती इंदौर में पहली चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि एक इंजन भोपाल (मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान) और दूसरा एंजिन दिल्ली (स्वयं प्रधानमंत्री) मिलकर डबल इंजन हो जाएं, तो देश-प्रदेश की तकदीर बदल देंगे। इस मौके पर उन्होंने कांग्रेस पर भी हमला बोला। प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस विभाजन करो, परिवार से परिवार को लड़ाओ, बिरादरी से बिरादरी को लड़ाओ की राजनीति करती रही है। कांग्रेस को सिर्फ अपना राजनीतिक उल्लू सीधा करना है, उसे देश और प्रदेश के विकास की चिंता नहीं है। सभा के दौरान इंदौर, धार एवं देवास जिले के भाजपा प्रत्याशियों सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी भी मौजूद रहे।


इंदौर ने देश का सिर ऊंचा किया

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इंदौर शहर ने देश का सिर उंचा किया है। स्वच्छता में लगातार दो वर्षों तक सिरमौर बना इंदौर अब देश को दिशा देने वाला शहर बन गया है। मैं इस स्वच्छता के सिरमौर इंदौर के जन-जन को नमन करता हूं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में सात स्मार्टसिटी बन रही हैं। इसमें इंदौर भी शामिल है। इन सातों स्मार्टसिटी के लिए अगले पांच वर्ष में 23 हजार करोड़ रूपए खर्च करेंगे। उन्होंने कहा कि इंदौर में 7 हजार करोड़ रूपए से 32 किलोमीटर की दूरी में मेट्रो ट्रेन भी चलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि आज का जो युवा 18 वर्ष का है, उसे पांच साल बाद रोजगार के कारण दुनिया के किसी भी देश में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।


54 बनाम 15 साल का विकास सबके सामने

धानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद जिन हाथों में देश की बागडोर थी, उन्होंने अपने 54 साल के कार्यकाल में भी इतना नहीं किया, जितना विकास पिछले कुछ वर्षों में हुआ है। उनकी चार पीढ़ियां जो नहीं कर पाई, वो एक चाय बेचने वाले ने चार वर्षों में कर दिया है। उनकी राजनीति विभाजन करो, तोड़ो, बिरादरी से बिरादरी को लड़ाओ और अपना राजनीतिक उल्लू सीधा करो पर ही चलती रही। श्री मोदी ने कहा कि उनके 55 सालों का इतिहास सबके सामने मौजूद है।

विकास की पर्याय थीं माता अहिल्याबाई

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि माता अहिल्याबाई ने मानवता की भलाई के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया था। वे विकास का पर्याय थीं, उन्होंने एक नई उंचाई को प्राप्त किया था। उन्होंने कहा कि माता अहिल्याबाई को जब किसी कागज पर अपने हस्ताक्षर करना होते थे तो वे श्रीशंकर लिखती थीं। वे मेरे लिए जीवंत प्रेरणा हैं। उनकी ही प्रेरणा से काशी विश्वनाथ महादेव को वह गौरव पुनः प्राप्त हो रहा है, जो देश के आजाद होने के बाद से अब तक नहीं हो सका था। पता नहीं उस समय सब शंकर भक्त कहां गए थे, लेकिन यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे काशी की जनता ने सांसद बनाकर दिल्ली भेजा और माता अहिल्याबाई की प्रेरणा से काशी विश्वनाथजी का पुनर्निमाण कार्य फिर से शुरू हो सका।


कौन हैं वो दिग्गज नेता जिनके बोलने से वोट कट जाते हैं

प्रधानमंत्री ने सभा में उपस्थित नौजवानों से पूछा कि उन्हें कांग्रेस के वे दिग्गज नेता याद हैं जो कहते हैं कि मैं अगर प्रचार करने जाता हूं तो कांग्रेस के वोट कट जाते हैं। इस पर आवाज आई दिग्विजयसिंह…..दिग्विजयसिंह। प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों को उनके चेहरे से कोई परेशानी नहीं है, लोगों को उनके व्यवहार से भी कोई परेशानी नहीं है, लेकिन यदि लोग उनको देख लेंगे तो उन्हें मध्यप्रदेश के 15 साल पहले के दिन याद आ जाते हैं। लोगों को वे गड्ढों वाली सड़कें, वे बिना बिजली की काली-काली रातें याद आ जाएंगी।


नई पीढ़ी इंतजार नहीं करती

प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले मध्यप्रदेश की गिनती बीमारू राज्यों में होती थी, लेकिन पिछले 15 वर्षों में शिवराजसिंह चौहान की सरकार ने कृषि क्षेत्र में देश का नाम रोशन किया है। आज मध्यप्रदेश नंबर एक पर है। उन्होंने इंदौर को प्रदेश की आर्थिक राजधानी बना दिया है। परिवहन के क्षेत्र में नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से जितने शौचालय चार पीढ़ियां नहीं बना पाईं, हमने चार साल में बना दिए हैं। हमने 9 करोड़ शौचालय चार साल में बनाए। मध्यप्रदेश में 60 लाख शौचालय बने और इंदौर में डेढ़ लाख शौचालयों का निर्माण कराया है। उन्होंने कहा कि भारत की नई युवा पीढ़ी अब ज्यादा इंतजार करने की आदी नहीं है। उसे टवीटर, फेसबुक की स्पीड से काम चाहिए और हम उस स्पीड से काम करके दिखा रहे हैं।

मैडम की रिमोड कंट्रोल सरकार ने नहीं किया सहयोग

प्रधानमंत्री ने कहा कि सही अर्थों में मध्यप्रदेश को काम करने के लिए सिर्फ साढ़े चार चार ही मिले हैं, क्योंकि उस समय केंद्र में 10 साल तक मैडम की रिमोट कंट्रोल वाली सरकार थी और उन्होंने कोई सहयोग नहीं किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैडम की सरकार के लिए मुझे और शिवराज जी को धरने पर बैठना पड़ा, आंदोलन करना पड़ा। हमारी पूरी शक्ति 10 साल तक मैडम की रिमोट कंट्रोल सरकार से लड़ने में खर्च होती रही।



Leave a Reply