• Tue. Aug 9th, 2022

अग्निपथ योजना के अन्‍तर्गत वायुसेना में पहले बैच की भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी

अग्निपथ योजना के अन्‍तर्गत वायुसेना में पहले बैच की भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी
agniveerसरकार ने कहा है कि नई अग्निपथ योजना के अंतर्गत अग्निवीरों की भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी और निष्पक्ष होगी। भारतीय वायुसेना में पहले बैच की भर्ती के लिए पंजीकरण प्रक्रिया इस महीने की 24 तारीख से शुरू होगी। नौसेना और थल सेना में पंजीकरण प्रक्रिया अगले महीने की पहली तारीख से शुरू की जाएगी।

लेफ्टिनेंट जनरल और सैन्य मामलों के विभाग में अपर सचिव अनिल पुरी ने नई दिल्ली में संवाददाताओं को बताया कि भर्ती प्रक्रिया और रेजिमेंटेशन में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना के अंतर्गत सशस्त्र सेनाओं में युवाओं, प्रौदयोगिकी के जानकार तथा अनुकूलनशील लोगों को भर्ती की जाएगी और प्रत्येक को व्यक्तिगत रूप से भविष्य के लिए तैयार किया जाएगा। उन्होंने बताया कि अग्निवीर वीरता पुरस्कार पाने के पात्र होंगे।

श्री पुरी ने कहा कि अभ्यर्थियों की सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर 2 3 0 1 3 8 6 5 शुरू किया गया है।

एयर मार्शल सूरज कुमार झा ने बताया कि प्रवेश प्रक्रिया, प्रवेश स्तर पर योग्यता और परीक्षा पाठ्यक्रम में किसी प्रकार का बदलाव नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि वायुसेना में सभी भर्तियां केवल अग्निवीर वायु के माध्यम से की जाएंगी। उन्होंने बताया कि अगले महीने की 24 से 31 तारीख तक देशभर में 250 केंद्रों पर आनलाइन परीक्षा आयोजित की जाएगी। भर्ती प्रक्रिया इस वर्ष के अंत तक पूरी हो जाएगी। उन्होंने बताया कि अभ्यार्थियों की सहायता के लिए दो हेल्पलाइन शुरू की गई हैं। इनके नम्बर हैं – 011-25699606 और 011-25694209

एयर मार्शल सूरज कुमार ने कहा कि वायुसेना को युद्ध के योग्य और युद्ध के लिए तैयार रखने के लिए जो भी आवश्यक होगा किया जाएगा।

वाइस एडमिरल दिनेश के. त्रिपाठी ने कहा कि भारतीय नौसेना अग्निवीरों के लिए भर्ती कैलेंडर कल जारी करेगी। उन्होंने बताया कि अग्निवीरों के पहले बैच का प्रशिक्षण 21 नवम्बर से आईएनएस चिल्का पर होगा।
===========================Courtesy========================
अग्निपथ योजना के अन्‍तर्गत वायुसेना में पहले बैच की भर्ती प्रक्रिया 24 जून से शुरू होगी
agniveer

 

aum

Leave a Reply

Your email address will not be published.