• Tue. Jul 23rd, 2024

आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन में है वैश्व‍िक समस्याओं का हल : मुख्यमंत्री चौहान

आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन में है वैश्व‍िक समस्याओं का हल : मुख्यमंत्री चौहान
adisankracharya,advaitdarshanभारत की सनातनी परम्परा, अद्वैत और एकता के विचार को सामने लायेगा एकात्म धाम
मध्यप्रदेश परिव्रजन योजना पर करेगा कार्य, संतों को भी जोड़ेंगे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वैश्व‍िक समस्याओं का हल आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन में उल्लेखित एकात्मवाद में है। श्री चौहान ने आज खण्डवा जिले के ओंकारेश्वर में सिद्धवरकूट क्षेत्र में ब्रह्मोत्सव को सम्बोधित करते हुए कहा कि ओंकारेश्वर में एकात्म धाम भारत की सनातनी परम्परा और एकता के विचार को अभिव्यक्त करने का कार्य करेगा। समारोह में देश से हजारों संत, आध्यात्मिक विचारक और प्रबुद्धजन उपस्थित थे।

श्री चौहान ने कहा कि “वसुधैव कुटुम्बकम्” भारत का आदर्श विचार है। एक ही चेतना सभी मनुष्यों-प्राणियों में व्याप्त है। तेरा-मेरा की बात करने वाले व्यक्ति छोटे हृदय के होते हैं। मनुष्यों के साथ पशु-पक्षियों के कल्याण का दर्शन सिर्फ भारत में मिलेगा। तुलसी, कबीर और अन्य संतों एवं विचारकों ने मानव-कल्याण को ही सर्वोपरि माना है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में परिव्रजन योजना पर कार्य किया जायेगा। इसके तहत सेवा कार्य के पवित्र उद्देश्य से प्रवास और अन्य स्थान पर समाज के उपयोगी प्रकल्प अपनाने के लिये नागरिकों के साथ ही संत समाज को भी जोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि विकासखण्ड का चयन कर युवाओं के माध्यम से अद्वैत के सिद्धान्त का प्रचार किया जायेगा। आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास ने शिविरों के माध्यम से युवाओं को एकात्मता और मानव-कल्याण के विचार से जोड़ा है। इस कार्य में संतों का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ओंकारेश्वर में आज ऐसे अद्भुत अद्वैत लोक के लिये भूमि-पूजन हुआ है जो आने वाली पीढ़ी को इस दर्शन की जानकारी देकर भविष्य संवारेगा। अद्वैत लोक से एकात्मता और शांति का संदेश दुनिया भर में जायेगा। यह दर्शन नई पीढ़ी के मन-मस्तिष्क तक पहुँचेगा। आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय वेदांत संस्थान एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक इस विचार को स्थानांतरित भी करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जगतगुरू शंकराचार्य 8 वर्ष की आयु में करीब 1675 किलोमीटर की यात्रा कर ओंकारेश्वर पहुँचे थे। यहाँ उन्होंने दीक्षा प्राप्त की। भगवान श्री राम और भगवान श्री कृष्ण के बाद शंकराचार्य जी ने सम्पूर्ण भारत को चारों दिशाओं में बांधने का कार्य किया। शंकराचार्य जी थे, तभी आज भारत है।

प्रतिमा स्थापना का विचार नर्मदा यात्रा में आया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ओंकारेश्वर का अद्वैत संस्थान देश और दुनिया के विद्यार्थियों के माध्यम से विश्व शांति का केन्द्र बनेगा। वर्ष 2016 में सिंहस्थ महाकुम्भ के दौरान नर्मदा सेवा यात्रा की प्रेरणा मिली। नर्मदा सेवा यात्रा के माध्यम से ही ओंकारेश्वर में शंकराचार्य जी की प्रतिमा स्थापना का विचार मन में आया, जिसे साकार करने के लिये एकात्म यात्रा निकाली गई और घर-घर से मिट्टी के कलश लाये गये थे। इससे यह विचार प्रसारित हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय विचारकों ने भी शंकराचार्य जी को विश्व के सर्वश्रेष्ठ महापुरूषों में शामिल किया है।

ब्रह्मोत्सव में साधु, संतों और अखाड़ों के प्रमुखों ने की एकात्म धाम प्रकल्प की प्रशंसा

जूना पीठाधीश्वर के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज ने कहा कि मध्य प्रदेश में नर्मदा के तीरे इस धाम में भगवान ओंकारेश्वर पर्वत पर भागवतपाद जगतगुरु की भव्य और दिव्य प्रतिमा स्थापित करने का प्रकल्प अद्भुत है। आज यहाँ दक्षिण भारत से भी अनेक संत पधारे हैं। आदि शंकराचार्य जी आज भारत के सांस्कृतिक स्वरूप का मेरुदंड बने हैं। हमारी संस्कृति इस तरह विकसित नहीं होती यदि शंकराचार्य जी नहीं आते।

गुरू देने वाली धरा है मध्यप्रदेश

स्वामी अवधेशानंद जी ने कहा कि देश का हृदय प्रदेश गुरू देने वाली धरा भी है। शंकराचार्य जी को मध्यप्रदेश में आगमन पर गुरू गोविंद पाद मिले और मध्यप्रदेश की धरती से जगतगुरू भी मिले। मुख्यमंत्री श्री चौहान को जगतगुरू ने ही इस कार्य के लिये चयनित किया। ओंकारेश्वर में शंकराचार्य की प्रतिमा की स्थापना और अद्वैत धाम की पहल मानवीय नहीं बल्कि ईश्वरीय या दैवीय संकल्प है। मुख्यमंत्री श्री चौहान अच्छे शासक, प्रशासक होने के साथ ही उच्च कोटि के उपासक भी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान की धर्मपत्नी जीवन साथी के सद्कार्यों में सहायक बनती हैं। मध्यप्रदेश में शंकरदूत भी बनाये जा रहे हैं। अद्धैत दर्शन के संदेश को समाज तक पहुँचाने वाले युवा-उत्प्रेरक और प्रचारक शिविरों के माध्यम से तैयार किये जा रहे हैं। अवधेशानंद जी ने आशा व्यक्त की कि मध्यप्रदेश सेवा कार्यों में अग्रसर बना रहेगा।

हरिद्वार के परमानंद गिरि जी ने कहा कि आज का दिन प्रसन्नता का है। यह दिन सिर्फ भारतीयों के लिये नहीं सम्पूर्ण विश्व के लिये महत्वपूर्ण है। युवाओं द्वारा वेदांत का प्रचार हो रहा है, आज मनुष्य छोटी-छोटी बातों में फँसा हुआ है। इन छोटी बातों को जड़ से उखाड़ फेंकना है अर्थात इन्हें समाप्त कर एकता और वेदांत के विचार को प्रचारित करना होगा।

वरिष्ठ विचारक श्री सुरेश सोनी ने कहा कि झंझावातों के बाद भी भारत आगे बढ़ रहा है। दीर्घ काल के बाद भारत “स्व” को अभिव्यक्त कर रहा है। भारत की सांस्कृतिक चेतना और आध्यात्मिक परम्परा के प्रति स्थानों का विकास हो रहा है। केदारनाथ, अयोध्या, काशी और उज्जैन में महाकाल लोक से राष्ट्रवासियों का ध्यान आकर्षित हुआ है। नागरिकों की आशा और आंकाक्षा है कि देश एक हो, अद्वैत का सिद्धान्त प्रचारित करने के प्रयास सराहनीय हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान इसके लिये साधुवाद के पात्र हैं। ओंकारेश्वर की भौतिक प्रतिमा लोगों के आध्यात्मिक मानस तक पहुँचेगी। संतों की तपस्या और सिद्धान्त हमारे व्यवहार में व्यक्त होंगे, इसके चिन्ह दिखाई दे रहे हैं। आज अद्वैत के विचार को जीवन में उतारने की आवश्यकता है। ओंकारेश्वर का प्रकल्प एक गंगोत्री के समान है जो जल की धारा को बढ़ाते हुए महासागर के रूप में सामने आयेगा। संतों की प्रेरणा और आशीर्वाद मिल जाने से यह साकार होगा। ब्रह्मोत्सव जी-20 के सन्दर्भ में एक पृथ्वी, एक परिवार और एक भविष्य के विचार को भी बल मिला है।

ब्रह्मोत्सव में पहुँचे विविध क्षेत्रों के प्रतिनिधि

ब्रह्मोत्सव में जहाँ मित्रानंद महाराज पधारे, जो युवाओं को आयएएस बनने के लिये कोचिंग सुविधा उपलब्ध करवाते हैं, वहीं पत्रिका समूह के प्रमुख श्री गुलाब कोठारी के अलावा 13 प्रमुख अखाड़ों के प्रतिनिधि और देश के विभिन्न सम्प्रदायों के प्रतिनिधि भी उपस्थित हुए। गुरू मॉ आनंदमूर्ति जी के साथ ही पद्मश्री श्री वी.आर. गौरीशंकर भी पधारे। उत्तर से लेकर दक्षिण और पूरब से लेकर पश्चिम तक अनेक प्रान्तों के प्रतिनिधि आये।

ब्रह्मोत्सव में वर्चुअली भी जुड़े संत

सिद्धवरकूट में हुए ब्रह्मोत्सव में विभिन्न पीठों के जगद्गुरू शंकराचार्य ने भी लाइव संदेश के माध्यम से एकात्म धाम के लिये शुभकामना संदेश दिये। जगद्गुरू शंकराचार्य, शारदा पीठ और श्रृंगेरी श्री विधुशेखर भारती महास्वामी जी ने कहा कि आदि गुरू शंकराचार्य की भव्य मूर्ति बन जाने से श्रद्धालुओं को परम सुख की अनुभूति मिलेगी। अद्वैत के सिद्धान्त अनंत है। इन सिद्धान्तों ने समाज के विभिन्न लोगों को जोड़ा है। जगद्गुरू शंकराचार्य, शारदापीठ द्वारिका सदानंद सरस्वती जी ने अपने संदेश में कहा कि यह अवसर बेहद शुभ है। एक दौर में वेद ग्रन्थों के प्रमाण मांगे जाने लगे थे। आचार्य शंकर ने अपने धार्मिक सूत्रों से उनका खण्डन किया। आचार्य मानते थे कि प्रत्येक प्राणी में परमात्मा का अंश है। जगद्गुरू शंकराचार्य, कांची कामकोटि पीठ, कांचीपुरम स्वामी विजयेन्द्र सरस्वती जी ने अपने संदेश में कहा कि वेदों का सार है विश्व-कल्याण। आज इस विचार को सारा विश्व मान रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री के समाज के कल्याणकारी कार्यों जैसे मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना की सराहना की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महाकाल धार्मिक क्षेत्र का भी विस्तार किया है। अद्वैत के सिद्धान्तों से देश का विकास होगा और भारत जल्द विश्व गुरू बन सकेगा।

अंत में संस्कृति मंत्री श्रीमती उषा ठाकुर ने आध्यात्म के इस कार्यक्रम में संतों के पहुँचने और नागरिकों के शामिल होने पर सभी का आभार माना।

‘शिवोहम’ की प्रभावी प्रस्तुति से हुई ब्रह्मोत्सव की शुरुआत

मुख्यमंत्री श्री चौहान सहित देश भर से पधारे संतों,आध्यात्मिक गुरुओं, प्रबुद्ध जन और नागरिकों के समक्ष ‘शिवोहम’ नृत्य नाटिका में आचार्य शंकर के स्रोतों पर केंद्रित समवेत नृत्य की प्रस्तुति हुई। ओंकारेश्वर में नर्मदा तट के पास सिद्धवरकूट में निर्मित विशाल मंच पर संतों के पहुँचने पर उनका पारंपरिक रूप से स्वागत किया गया।

कार्यक्रम की शुरुआत डॉ. पद्मा के नृत्य से हुई। सबसे पहले उपस्थितों ने वेदोच्चार का श्रवण किया और पद्मभूषण डॉ. पद्मा सुब्रमण्यम की भरत नाट्यम शैली में दी गई प्रस्तुति देखी। इस प्रस्तुति में गायन डॉ. गायत्री टंडन का था।

प्रदर्शनी का अवलोकन

मुख्यमंत्री श्री चौहान सहित विभिन्न राज्यों से पधारे संत गण ने आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास द्वारा सिद्धवरकूट में लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

श्री चौहान की विनम्रता से प्रभावित हुए संत

सिद्धवरकूट में मंचीय कार्यक्रम प्रारंभ होने के पहले मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंच पर विभिन्न राज्यों से आए पीठाधीश्वर और संतों का चरण स्पर्श कर आशीर्वाद प्राप्त किया और उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री की विनम्रता से संत गण प्रभावित हुए।

विभिन्न प्रकाशनों का विमोचन

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान और संतों ने तीन प्रकाशन का विमोचन किया। न्यास द्वारा युवाओं को एकात्म और अद्वैत के विचार से जोड़ने के लिए कई गतिविधियां की गईं। इनमें शिविर भी हुए जिस पर केंद्रित पुस्तक “अद्वैत युवा जागरण शिविर” और श्री विजय मनोहर तिवारी की लिखी पुस्तक “एकात्म धाम” और “स्वप्न से शिल्प तक” पुस्तकों का विमोचन हुआ। न्यास के सौजन्य से निर्मित एकात्म धाम फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।

आचार्य शंकर फिल्म का निर्माण होगा

ब्रह्मोत्सव में न्यास द्वारा फिल्म शंकर के निर्माण की घोषणा भी की गई। फिल्म निर्माण के लिए टीम को दायित्व दिया जा चुका है। निर्देशन विख्यात फिल्म निर्देशक आशुतोष गोवारीकर करेंगे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में आए श्री गोवारीकर और उनकी पत्नी को सम्मानित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शिवोहम की छह नृत्य शैलियों के नृत्य गुरुओं को भी सम्मानित किया। संचालन श्री विनय उपाध्याय ने किया।
===============================================================
आदि शंकराचार्य के अद्वैत दर्शन में है वैश्व‍िक समस्याओं का हल : मुख्यमंत्री चौहान
adisankracharya,advaitdarshan

aum

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *