प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास, जनकल्याण के अंजेडा ने जाति-पाति, मजहब की सियासत को मात दी- नंदकुमार सिंह चौहान

30/07/2017
भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि आजादी के बाद देश में फिरका परस्ती को बल मिला जाति पांति मजहब के तुष्टीकरण की राजनीति परवान चढ़ी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश में लोककल्याणकारी कार्यों और विकास को राजनीति का अंग बनाकर सबका साथ सबका विकास का मिशन आरंभ किया। नकारात्मकता की सियासत का झण्डा उठाने वाले सिर धुन रहे हैं। मोदी विरोध के अभियान के नेतृत्व के नाम पर सिरफुटव्वल कर रहे हैं। देश के 29 राज्यों में से 18 राज्यों में भगवा परचम फहरा रहे हैं। देश की 67 प्रतिषत आबादी कांग्रेस की छाया से मुक्त हो गयी है। कांग्रेस मुक्त भारत जुमला नहीं हकीकत साबित होने जा रही है।
उन्होंने कहा कि महागठबंधन की धुरी बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यू के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री नितीश कुमार ने भी नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भरोसा जताकर मोदी विरोध में गठित महागंठबंधन से तौवा कर महागठबंधन को धुरी विहीन कर दिया है। श्री नितीश कुमार का एनडीए की और आकर्षित होने का बुनियादी सबब भ्रष्टाचार के प्रति श्री नरेन्द्र मोदी की जीरो टालरेंस की प्रतिबद्धता है। श्री नितीश कुमार भी भ्रष्टाचार के विरोधी रहे हैं और यही उनकी राजनैतिक पूंजी है, जो उन्होंने स्वच्छ छवि के रूप में अर्पित की है।
श्री चौहान ने कहा कि 2013 में जिस तरह श्री नरेन्द्र मोदी के कट्टर हिन्दुत्व की छवि थी और श्री नितीश ने एनडीए से संबंध तोड़े। तीन वर्षों में श्री नरेन्द्र मोदी ने सबका साथ-सबका विकास का मिषन आरंभ किया और सभी को विकास और न्याय के अवसर सुनिष्चित कर साबित कर दिया कि तुष्टीकरण किसी का भी नहीं किया जायेगा। इससे संकीर्णता, जाति, पांति, मजहब की राजनीति करने वालों की पोल खुल गयी और उत्तरी भारत में श्री नरेन्द्र मोदी को हर वर्ग समुदाय का समर्थन मिला और भगवा परचम ने जाति पांति की सियासत को दफन कर दिया। क्षेत्रीय दलों ने श्री मोदी की प्रतिबद्धता का नतीजा लोकसभा चुनाव में भुगत लिया है।
उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने सिर्फ सियासत के नाम पर चुनाव में ही लगातार विजय हासिल नहीं कि अपितु किसानों को आर्थिक कवच दिया। युवकों को रोजगार के द्वार खोलने के लिए कौषल विकास को सौपान बनाया। उज्जवला योजना के तहत गरीबों को रसोई गैस देकर धुंआ से मुक्ति दिलायी और छत की व्यवस्था की है।