जो दिव्यांग या वृद्धजन टीकाकरण केंद्र नहीं आ सकते उन्हें घर जाकर टीका लगाया जाए – मुख्यमंत्री  चौहान

जो दिव्यांग या वृद्धजन टीकाकरण केंद्र नहीं आ सकते उन्हें घर जाकर टीका लगाया जाए – मुख्यमंत्री  चौहान
todayindia,mpnews,shivrajsinghchouhan,mpcm,madhyapradesh chiefminister,chiefminister of madhyapradesh,madhyapradesh news,todayindianews,24,#today india,madhyapradeshnewsdiary,madhyapradeshnewsdiaryटीका नहीं लगवाकर दूसरों की जिंदगी खतरे में नहीं डालें
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सरोजनी नायडू स्कूल पहुँच कर लोगों को किया टीकाकरण के लिए प्रेरित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने टीकाकरण महाअभियान-3 की व्यवस्थाओं का किया अवलोकन
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना वैक्सीनेशन के लिए मजबूरी के कारण जो दिव्यांग व्यक्ति या बुजुर्ग टीकाकरण केंद्र नहीं आ सकते उन्हें घर जाकर टीका लगाने की व्यवस्था जिला प्रशासन द्वारा की जाए। कोरोना की तीसरी लहर का संकट अभी टला नहीं है। कई राज्यों में कोरोना के केस आ रहे हैं, अत: सर्तकता की आवश्यकता है। मास्क और दूरी बनाए रखने का पालन जरूरी है। दुनिया के सभी वैज्ञानिकों और डॉक्टरों का मत है कि कोरोना महामारी से बचने का सर्वश्रेष्ठ उपाय वैक्सीन की दोनों डोज हैं। प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा हम सब को मुफ्त वैक्सीन उपलब्ध कराई गई है। सभी पात्र व्यक्ति वैक्सीन के दोनों डोज अवश्य लगवाएँ।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने भोपाल के सरोजनी नायडू शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, शिवाजी नगर में स्थापित टीकाकरण केंद्र में उपस्थित जन-समुदाय को टीकाकरण के लिए प्रेरित करते हुए यह बात कही। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के 71 वें जन्म-दिवस 17 सितम्बर को प्रदेश में टीकाकरण महाअभियान-3 आयोजित किया गया है।

बड़ी देर भई नंदलाला

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीन की डोज जल्दी लगवाएँ। आपको देखकर लोग यह न कहें कि “बड़ी देर भई नंदलाला”। यह जिंदगी का डोज है। अपनी जिंदगी बचाने के लिए वैक्सीन लगवाना आवश्यक है, इसमें देरी नहीं करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यदि हम वैक्सीन नहीं लगवाते तो दूसरे की जिंदगी भी खतरे में डालते हैं। यह वैक्सीन आपकी सुरक्षा के साथ आपके परिवार और आपके परिचितों की सुरक्षा के लिए भी जरूरी है।

प्रदेशवासियों के सहयोग से ही होगा सबका टीकाकरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 26 सितम्बर तक प्रदेश की शत-प्रतिशत पात्र जनसंख्या को वैक्सीन का पहला डोज लगाया जाना है। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सभी प्रदेशवासियों का सहयोग आवश्यक है। जिन लोगों ने स्वयं वैक्सीन नहीं लगवाई है वे लगवाएँ और जिन्होंने लगवा ली है वे अपने परिचितों को प्रेरित करें। जिन व्यक्तियों को पहली डोज लग चुकी है वे निश्चित समयावधि पर दूसरी डोज भी अवश्य लगवाएँ।

व्हीलचेयर पर पहुँचे अनिल कुमार और अरूण चौरसिया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने टीकाकरण केंद्र पर व्हीलचेयर पर आये दिव्यांग श्री अनिल कुमार और श्री अरूण चौरसिया से चर्चा की और उन्हें वैक्सीन-बूथ तक स्वयं ले गए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने टीकाकरण केंद्र का अवलोकन कर टीकाकरण महाअभियान-3 की प्रगति की जानकारी भी ली। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने भी उपस्थित जन-समुदाय को संबोधित किया।
============================================================
प्रधानमंत्री श्री मोदी के व्यक्तित्व से युवा प्रेरणा लें : राज्यपाल श्री पटेल
प्रधानमंत्री के जन्म-दिवस पर राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में हुआ कार्यक्रम
राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने युवाओं से कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व से प्रेरणा प्राप्त करें। उनकी दृढ़ इच्छा शक्ति, उच्च मानवीय संवेदनाएँ और कर्तव्यों के प्रति समर्पण की भावना से सीख लेकर उसे जीवन में उतारें। श्री पटेल ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में श्री मोदी जी के व्यक्तित्व और कार्य-प्रणाली के प्रंसग का जिक्र करते हुए युवाओं को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि स्मार्ट और स्ट्रांग कार्य-प्रणाली सफलता की गारंटी है। उत्कृष्टता, कौशल में नहीं दृष्टिकोण में होती है। इसलिए लक्ष्य ऐसा बनाये जिसका पीछा करना है। अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए छोटे-छोटे लक्ष्यों को प्राप्त करते हुए आगें बढ़ना चाहिए।

राज्यपाल श्री पटेल आज राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय भोपाल में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्म दिवस के अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने विश्वविद्यालय में रक्तदान शिविर का शुभारम्भ और रुद्राक्ष के पौधें का रोपण किया।

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने गुजरात के सूरत में आई बाढ़ के प्रसंग का उल्लेख करते हुए बताया कि सूरत शहर में एक बार भयंकर बाढ़ आई थी। क्षेत्र के निचलें इलाकों में 14 फुट तक पानी भर गया था। रात में सूचना मिलते ही प्रभारी मंत्री के रूप में वे स्थल पर पहॅुंचे। तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को बाढ़ की सूचना दी। श्री मोदी ने उनको बताया कि सुबह ही सूरत पहॅुंच जाएगे। श्री पटेल ने बताया कि सूरत आकर श्री मोदी ने छोटी सी नाव में बैठकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के घर-घर जाकर लोगों से सीधे बात की। मुख्यमंत्री को अपने बीच पाकर बाढ़ प्रभावित परिवार अत्यंत हर्षित हो गए, कहने लगे कि आप आ गए अब कोई दिक्कत नहीं है। श्री मोदी जी ने आत्मीय भाव के साथ उनसे चर्चा कर, उनकी छोटी-छोटी जरूरतों की भी जानकारी ली। अधिकाँश परिवारों ने बताया कि विगत दो दिनों से चाय का सामान नहीं होने से वे लोग चाय नहीं पी सके है। मुख्यमंत्री श्री मोदी जी ने भ्रमण से लौटते ही देर रात में नदी किनारे के समस्त जिला कलेक्टरों को निर्देशित किया कि छोटी नावें सुबह 7 बजे से पहले सूरत में उपलब्ध करा दें। इस तरह सौ नावों को एकत्र कर उनमें चाय के लिए जरूरी सभी सामग्री प्रात: 7 बजे से 10 बजे के बीच बाढ़ प्रभावित प्रत्येक घर में पहुँचायी गयी।

राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि जीवन में आत्म-संतुष्टि का होना सबसे बड़ी खुशी है। इसलिए जीवन में मनी, पॉवर और प्रेस्टीज के लिए किसी के पीछे भागना उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि देश में र्स्टाटअप के लिए अनुकूल वातावरण बना हुआ है। फूड एन्ड एग्रीकल्चर सेक्टर में ग्रोथ की अपार संम्भावनाएँ है। केन्द्र सरकार ने कृषि से जुड़ी मूलभूत सुविधाओं के लिए एक लाख करोड़ का एग्री-इन्फ्रा-फंड भी बनाया है। शुरुआती पूंजी उपलब्ध कराने के लिए एक हजार करोड़ रुपए का सीड फंड शुरू किया है। उन्होंने कहा कि र्स्टाटअप को बड़ा बाजार भी उपलब्ध कराया गया है। सरकारी टेंडर्स में र्स्टाटअप को भी उतना ही मौका मिल रहा है जितना किसी बड़ी कंपनी को। अब तक करीब 8 हजार र्स्टाटअप जेम पोर्टल पर रजिस्टर हैं, जिन्होंने लगभग 2,300 करोड़ रुपए का व्यापार भी किया है। राज्यपाल की उपस्थिति में राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय और नेशनल कैडेट कोर के मध्य एम०ओ०यू० भी हस्ताक्षरित हुआ।

स्वागत उद्बोधन में कुलपति श्री सुनील कुमार ने बताया कि नई शिक्षा नीति के तहत विश्वविद्यालय द्वारा तकनीकी शिक्षा के साथ एन०सी०सी० को इलेक्टिव विषय के रूप में जोड़ा गया है। इंजीनियरिग विद्यार्थियों को क्रेडिट भी दिया जाएगा। अतिथियों द्वारा कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन कर किया गया। एन०सी०सी० के कमांडिग ऑफिसर ब्रिगेडिर संजोय घोष और एनर्जी स्वराज फाउंडेशन के संस्थापक प्रो० चेतन सिंह सोलंकी सहित विश्वविद्यालय के प्राध्यापकगण, अधिकारी, कर्मचारी और विद्या‍र्थी उपस्थित थे।
================================================================दिव्यांगता को कमजोरी नहीं ताकत बनाएँ : राज्यपाल श्री पटेल
ऐसा कोई लक्ष्य नहीं जिसे दिव्यांग पा नहीं सकते
प्रधानमंत्री के जन्म-दिवस पर दिव्यांगजन उपकरण वितरण कार्यक्रम में राज्यपाल शामिल हुए
राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा है कि दिव्यांगता को कमजोरी नहीं ताकत बनाएँ। कोई भी शारीरिक कमजोरी कभी भी आत्म-विश्वास से बड़ी नहीं होती है। उन्होंने प्राचीन और आधुनिक भारत के दिव्यांगजनों की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए बताया कि अष्टावक्र गीता के रचेयता मुनि अष्टावक्र का शरीर 8 स्थानों से टेढ़ा था। टोक्यों पैरालम्पिक खेल में दिव्यांगजन देश के लिए 19 पदक लेकर आए है। जिससे यह साबित होता है कि हौसलों के सामने कोई बाधा नहीं होती। उन्होंने समाज में दिव्यांगता के बारे में जागरूकता और संवेदनशीलता को बढ़ाने की जरूरत बताई है।

राज्यपाल श्री पटेल, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्म-दिवस पर आज स्पर्श परिसर में स्थित दृष्टि, श्रवण बाधितार्थ उच्चतर माध्यमिक विद्यालय शाहजहानांबाद में आयोजित दिव्यांगजन उपकरण वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि दिव्यांगजन उनको मिले उपकरणों को मात्र साधन समझे। उन्हें साध्य नहीं बनाएँ। दिव्यांगजनों को अपनी प्रतिभा, हौसले और लगन को साध्य बनाना चाहिए। ऐसी कोई मंजिल नहीं जिस तक दिव्यांगजन नहीं पहुंच सकते। ऐसा कोई लक्ष्य नहीं जिसे दिव्यांग पा नहीं सकते। आवश्यकता है कि जो विशेष प्रतिभा उनके अंदर है। उसे पहचानें, जो छिपी हुई ताकत है, उसे जगाएँ और सामने लाएँ।

राज्यपाल ने कहा है कि समाज को दिव्यांग भाई-बहनों और बच्चों की समस्याओं को समझना होगा। परिवार, समाज और हम सब की जिम्मेदारी है कि उनकी प्रतिभा को पहचानें और उसे निखारने में मदद करें। उनकी ऊर्जा को नयी दिशा दें।

कार्यक्रम में दिव्यांग छात्र-छात्राओं द्वारा आकर्षक सांस्कृतिक प्रस्तुतियों दी गई। श्रवण बाधित बालिका खलीमा अंसारी ने वंदेमातरम् पर एकल नृत्य की प्रस्तुति दी। दृष्टिबाधित छात्रा महिमा माली ने ‘एक प्यार का नगमा है’ गीत और छात्र आदित्य भैरव ने ‘गणेश वंदना’ की प्रस्तुति दी। मानसिक मंद छात्र-छात्राओं जतिन, इन्द्रेश, तनु, कुमकुम और देवराज ने देश भक्ति के गीतों पर सामूहिक नृत्य का कार्यक्रम पेश किया। आभार प्रदर्शन प्रमुख सचिव सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण श्री प्रतीक हजेला ने किया।
================================================================

todayindia,mpnews,shivrajsinghchouhan,mpcm,madhyapradesh chiefminister,chiefminister of madhyapradesh,madhyapradesh news,todayindianews,24,#today india,madhyapradeshnewsdiary,madhyapradeshnewsdiary