(todayindia) अपराधों पर रोकथाम के लिए नई तकनीक का बेहतर इस्तेमाल करे पुलिस-मुख्यमंत्री कमल नाथ

(todayindia) अपराधों पर रोकथाम के लिए नई तकनीक का बेहतर इस्तेमाल करे पुलिस
मुख्यमंत्री कमल नाथ द्वारा 19वीं अखिल भारतीय वॉटर स्पोर्ट्स प्रतियोगिता का शुभारंभ
मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि अपराधों पर सख्ती से रोकथाम के लिए पुलिस विभाग नई तकनीक अपनाकर उसका बेहतर इस्तेमाल करे। कमल नाथ आज बड़े तालाब स्थित जल क्रीड़ा केन्द्र में 19वीं अखिल भारतीय वॉटर स्पोर्ट्स प्रतियोगिता 2019 का शुभारंभ कर रहे थे।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश-दुनिया में हुए परिवर्तनों के साथ नई तकनीक आने से पुलिस को कामकाज में सहूलियत हुई है। उन्होंने कहा कि नई तकनीक से अपराधों और अपराधियों पर रोकथाम आसान हुई है। आवश्यकता इस बात की है कि हम किस तरह नई तकनीक को अपने कामकाज का हिस्सा बनाएं और उसका उपयोग कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में करें।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा कि खेल प्रतियोगिताओं से प्रतिभाएं उभरकर सामने आती हैं। खेल मनुष्य को मानसिक और शारीरिक रूप से भी स्वस्थ्य बनाते हैं। हमारा पुलिस बल शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ हो, इस दृष्टि से खेल प्रतियोगिताएं महत्वपूर्ण हैं। प्रतियोगिता में भाग ले रहे केन्द्रीय बलों, अर्द्ध सैनिक संगठनों और 20 राज्यों से आए पुलिस विभाग के खिलाड़ियों का स्वागत करते मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि इस प्रतियोगिता के माध्यम से खिलाड़ी उत्कृष्ट प्रदर्शन करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने प्रतियोगिता में भाग ले रहे टीम प्रमुखों से परिचय प्राप्त किया और स्मारिका का विमोचन किया। श्री कमल नाथ ने परंपरानुसार खेल प्रतियोगिता शुभारंभ करने की घोषणा की। प्रतियोगिता में भाग ले रही टीमों ने मार्च-पास्ट कर मुख्यमंत्री को सलामी दी।

समारोह को पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह ने भी संबोधित किया। इस मौके पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री आदर्श कटियार, पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और बड़ी संख्या में खेल प्रेमी उपस्थित थे।

ज्ञातव्य है कि अखिल भारतीय पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड ने 19वीं अखिल भारतीय वॉटर स्पोर्ट्स की जिम्मेदारी मध्यप्रदेश पुलिस को सौंपी है। यह प्रतियोगिता 16 दिसम्बर तक चलेगी। मध्यप्रदेश में पांचवी बार इस प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। प्रतियोगिता में क्याकिंग, केनोईंग एवं रोईंग स्पर्धाएं होंगी।

अनुभूति कार्यक्रम में भाग लेंगे 1.11 लाख बच्चे
बच्चों के लिये वन्य-प्राणी संरक्षण का देश का अनूठा कार्यक्रम
वन विभाग के ईको-टूरिज्म बोर्ड द्वारा इस वर्ष भी 15 दिसम्बर से स्कूली बच्चों के लिये एक माह का अनुभूति कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। कार्यक्रम में एक लाख 11 हजार स्कूली छात्र-छात्राओं को वन और वन्य-प्राणियों के जीवन संरक्षण के प्रति अनुभूति कराने का लक्ष्य है। इस कार्यक्रम में टाइगर रिजर्व, राष्ट्रीय उद्यान और अभयारण्य के आसपास रहने वाले बच्चे भाग लेते हैं।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी ईको-टूरिज्म बोर्ड श्री एस.एस. राजपूत ने बताया कि देश में अपनी तरह के अनूठे, वृहद एवं प्रभावी अनुभूति कार्यक्रम में पिछले तीन सालों में ईको कैम्प के माध्यम से 2 लाख 25 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं को वन और वन्य-प्राणियों के प्रति संवेदनशील बनाते हुए प्रशिक्षित किया गया है। प्रदेश के वरिष्ठ, क्षेत्रीय और सेवानिवृत्त वन अधिकारियों और पर्यावरणविदों के कुशल मार्गदर्शन से कार्यक्रम के बहुत अच्छे परिणाम आये हैं। अब यह कार्यक्रम संस्थागत रूप ले चुका है।

कार्यक्रम का उद्देश्य देश के भावी नागरिकों में वन संरक्षण के संस्कार विकसित करना है। कैम्प में पक्षी दर्शन, जंगल सफारी, ट्रेकिंग, नेचर ट्रेल, प्रश्नोत्तरी आदि विभिन्न प्रतियोगिताएँ और गतिविधियाँ होंगी। इनके माध्यम से बच्चों को वन और वन्य-प्राणियों के संरक्षण तथा सृष्टि में उनकी महत्ता के प्रति जागरूक किया जाएगा।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

साईं पालकी यात्रा में शामिल हुए मंत्री श्री शर्मा
जनसम्पर्क एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी.शर्मा आज रचना नगर स्थित पिपलेश्वर हनुमान मंदिर की साईं पालकी यात्रा में शामिल हुए और साईंनाथ की पूजा-अर्चना कीl पालकी यात्रा में पुष्प-वर्षा करते हुए नागरिकों ने साईं पालकी यात्रा का स्वागत किया।

धर्मस्व मंत्री श्री शर्मा मठ मंदिर न्यास समिति अध्यक्ष से मिले

जनसम्पर्क एवं धर्मस्व मंत्री श्री पी.सी.शर्मा आज मठ मंदिर न्यास समिति के अध्यक्ष श्री सुबोधानंद महाराज से मिले। उन्होंने सुबोधानंद महाराज जी को पुष्प-गुच्छ भेंटकर आशीर्वाद प्राप्त किया। मंत्री श्री शर्मा के साथ पार्षद श्री मोनू सक्सेना भी मौजूद थे।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

उद्यानिकी और खाद्य प्र-संस्करण से सुनिश्चित हुई किसानों और नौजवानों की खुशहाली
मध्यप्रदेश में बीता साल किसानों और बेरोजगार नौजवानों के लिये नया सवेरा लेकर आया है। राज्य सरकार ने कृषि के साथ उद्यानिकी और खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में किसानों और नौजवानों को प्राथमिकता देते हुए उनके लिये आर्थिक मदद के रास्ते भी खोल दिए हैं। ये दोनों क्षेत्र किसानों और नौजवानों के लिये अतिरिक्त आय का सशक्त माध्यम बन गए हैं। अब प्रदेश का किसान खेती के साथ उद्यानिकी और खाद्य प्र-संस्करण के कारोबार अपनाने लगा है। बेरोजगार नौजवान भी इस क्षेत्र को आधुनिक तकनीक के साथ अपनाकर स्वावलम्बी बन रहे हैं।

प्रदेश में नई सरकार के गठन के बाद सबसे बड़ी चुनौती थी किसान को समृद्ध बनाने और नौजवान को रोजगार देने की। सरकार ने उद्यानिकी में सब्जी एवं मसाला क्षेत्र विस्तार योजना में अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के किसानों की अनुदान राशि को 50 से बढ़ाकर 70 प्रतिशत कर दिया है। इससे अब किसानों को प्रति हेक्टेयर 70 हजार रूपये तक अनुदान मिल रहा है। अनुदान में बीज के साथ प्लास्टिक क्रेट और बेल वाली सब्जियों फसलों के मंडप बनाने की सामग्री पर भी अनुदान मिल रहा है। इससे किसानों को उद्यानिकी उत्पादों को खेत से मंडी तक ले जाने में होने वाले फसल नुकसान में 20 से 25 प्रतिशत कमी हुई है। फसल उत्पादों की गुणवत्ता अच्छी रहने से मंडी में अधिक मूल्य भी मिलने लगा है। किसानों की मांग पर सरकार ने अब बेल वाली फसलों की मंडप निर्माण सामग्री पर 7 से 12 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से दो हैक्टेयर तक खेती करने पर अनुदान देने का निर्णय लिया है। इससे बेल वाली सब्जियों की फसलें मण्डप पर लगाने से फसल के उत्पादन का समय बढ़कर 6 से 7 माह होगा। साथ ही उत्पादन की गुणवत्ता बहुत अच्छी होने से बाजार में रेट भी 20 से 25 प्रतिशत अधिक प्राप्त होंगे। इस तरह करेला, गिलकी, लौकी आदि की फसलों से किसानों को प्रति हैक्टेयर 2 से 3 लाख रूपये की आय होगी।

तोतापरी आम का रोपण और प्र-संस्करण

प्रदेश में इस वर्ष से खाद्य प्र-संस्करण की सम्भावनाओं को देखते हुए होशंगाबाद, हरदा एवं बैतूल जिले में 1000 एकड़ में आम की तोतापरी किस्म का रोपण किया जा रहा है। इसमें किसानों को प्रक्षेत्रों पर 56 हजार रूपये प्रति एकड़ अनुदान सहायता प्रदान कर पौधा-रोपण की विशेष योजना लागू की गई है। योजना को अगले साल अन्य जिलों में भी बढ़ाया जायेगा। इस किस्म के आम पौधा-रोपण से किसानों को एक से डेढ़ लाख रूपये प्रति एकड़ तक आय प्राप्त होगी। साथ ही प्रदेश में आम प्र-संस्करण की औद्योगिक इकाइयों की स्थापना से रोजगार को बढ़ावा भी मिलेगा।

मुख्यमंत्री खाद्य प्र-संस्करण योजना लागू

प्रदेश में इस वर्ष से मुख्यमंत्री खाद्य प्र-संस्करण योजना लागू की गई है। योजना में उद्योग विभाग की तर्ज पर शासकीय भूमि/राजस्व भूमि को शिक्षित बेरोजगार युवाओं को एक से ढाई एकड़ भूमि प्रति हितग्राही तीस साल के लिये लीज पर उपलब्ध कराई जायेगी। योजना में 100-100 एकड़ के क्लस्टर बनाकर फूलों की खेती को बढ़ावा दिया जायेगा। किसानों के लिये तकनीकी मार्गदर्शन और बाजार व्यवस्था क्लस्टर स्थल पर ही उपलब्ध करवाई जायेगी। फूलों के दाम भी अच्छे प्राप्त होंगे। छिन्दवाड़ा में 100 एकड़ में आर्किड फूलों की संरक्षित खेती का क्लस्टर तैयार किया जा रहा है। इससे हितग्राहियों को प्रति एकड़ 10 से 15 लाख रूपये तक आय प्राप्त होगी।

छिन्दवाड़ा में हाईटेक हार्टिकल्चर ट्रेनिंग सेन्टर

छिन्दवाड़ा में अंतर्राष्ट्रीय स्तर का हाईटेक हॉर्टिकल्चर ट्रेनिंग सेन्टर बनाया जा रहा है। इससे उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में किसानों को नवीन तकनीकों से लाभांवित किया जाएगा। साथ ही प्रदेश में खाद्य प्र-संस्करण इकाइयों की स्थापना को बढ़ावा मिलेगा। प्रदेश के बैतूल, छिन्दवाड़ा, सिवनी और बालाघाट जिले में लगभग 1500 हेक्टेयर क्षेत्र में 432 लाख की लागत से काजू पौध-रोपण किया जा रहा है। इससे किसानों को 2 से 5 लाख रूपये सालाना आय प्राप्त होगी।

प्रदेश में दो नवीन उद्यानिकी महाविद्यालय रेहली और छिन्दवाड़ा में खोले गये हैं। साथ ही इन्डो-इजराइल प्रोजेक्ट के तहत उद्यानिकी क्षेत्र में तीन सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस, छिन्दवाड़ा में सिट्रस, मुरैना में वेजीटेबिल और भोपाल में फ्लोरीकल्चर के, स्थापित किये जा रहे हैं। इन सेन्टर से किसानों को संतरा, मौसंबी, नीबू, सब्जियों एवं फूलों की खेती की नवीन तकनीकी का प्रदर्शन और प्रशिक्षण के साथ अच्छी गुणवत्ता के विभिन्न किस्मों के रोगमुक्त पौधे उपलब्ध होंगे। मंडी निधि से 925 लाख रूपये लागत की नवीन परियोजना मॉडल नर्सरी कान्हासैया और गुलाब उद्यान, भोपाल में पुष्प-प्रदर्शन एवं अनुसंधान सहित यंत्रीकरण के प्रदर्शन की क्रियान्वित की जा रही है।

प्रदेश सरकार ने विगत एक वर्ष में नवाचारों से किसानों और नौजवानों की तरक्की की राह आसान कर दी है। अब यहाँ का युवा वर्ग उच्च गुणवत्ता के आर्गेनिक खाद्य उत्पादों का निर्यात भी करेगा। इससे किसानों को अच्छी कीमत और युवाओं को भरपूर रोजगार मिलेगा।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय संचालन समिति गठित
राज्य शासन ने सांख्यिकी सुदृढ़ीकरण सहायता योजना का समय पर क्रियान्वयन सुनिश्चित करने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय संचालन समिति का गठन किया है। यह समिति प्रदेश में योजना को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय का मार्गदर्शन करेगी। समिति में अपर मुख्य सचिव, योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी तथा प्रमुख सचिव वित्त सदस्य होंगे। आयुक्त आर्थिक एवं सांख्यिकी सदस्य सचिव होंगे।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

मुबारकपुर और 11 मील टोल प्लाजा निलंबित
एमपीआरडीसी करेगा संचालन
मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम ने भोपाल बायपास मार्ग पर स्थित 11 मील और मुबाकरपुर टोल प्लाजा को निलंबित कर दिया है। निगम ने मेसर्स ट्रांस्टाय, भोपाल बायपास प्रायवेट लिमिटेड, हैदराबाद से इसका सम्पूर्ण प्रबंधन अपने आधिपत्य में ले लिया है।

निगम के मुख्य महाप्रबंधक (प्रशासन) ने बताया कि आदेश के परिपालन में निगम के अधिकारियों एवं स्थानीय प्रशासन की उपस्थिति में निलंबन की कार्यवाही की गई। निगम द्वारा 12 दिसम्बर को सुबह 11.30 बजे 11 मील टोल प्लाजा पर स्थित लेन 5, 6, 7 एवं 8 से कुल राशि एक लाख 50 हजार 300 रुपये तथा सुबह 11.50 बजे मुबारकपुर टोल प्लाजा के लेन 3, 4, 5 एवं 6 से कुल राशि एक लाख 42 हजार 800 का जप्ती पंचनामा बनाया गया।

निगम ने टोल का संचालन स्वत: आरंभ कर दिया है। इस काम के लिये सेडमेप के माध्यम से आवश्यक कार्यवाही को नियोजित किया गया है। दोनों टोल प्लाजा का सम्पूर्ण संचालन एवं प्रबंधन आगामी आदेश तक मध्यप्रदेश सड़क विकास निगम द्वारा किया जाएगा।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)

राष्ट्रीय एकलव्य खेल प्रतियोगिता के “मुन्ना बाघ के लिये वन विहार में बाड़ा तैयार
देश के सबसे लोकप्रिय बाघों में से एक और बरसों कान्हा की शान के नाम से मशहूर ‘मुन्ना’ बाघ के लिये वन विहार में नया घर (बाड़ा) तैयार हो गया है। मुन्ना बाघ आजकल भोपाल में आयोजित राष्ट्रीय एकलव्य खेल प्रतियोगिता की पहचान (लोगो) बन गया है। इसे हाल ही में कान्हा टाइगर रिजर्व से भोपाल के वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में शिफ्ट किया गया है।

पूरे विश्व में यह 17 वर्षीय बाघ मुन्ना अपने माथे पर अंकित धारियों ‘CAT’ और उसके नीचे ‘PM’ के लिये जाना जाता है। मुन्ना अपनी राजसी चाल-ढाल और फोटो खिचवाने की निर्भीक अदा के कारण पर्यटकों, छायाचित्रकारों और बाघ संरक्षणविदों के बीच बहुत अधिक लोकप्रिय रहा है। आयकॉन बन चुके मुन्ना के वीडियो और फोटोज को करोड़ों लोगों द्वारा सराहा गया है। बिल्ली प्रजाति का होने के कारण बाघ को आम भाषा में कैट या सुपर कैट भी कहा जाता है।

सामान्यत: जंगल में बाघ की उम्र 10-12 वर्ष होती है। विगत वर्षों में अपने सुन्दर, फुर्तीले और बलवान शरीर से करोड़ों प्रशंसकों का दिल जीतने वाला मुन्ना वृद्धावस्था के कारण थोड़ा कमजोर हो गया है। चारों केनाइन (दाँत) घिस जाने से उसे शिकार करने में कठिनाई होने लगी थी। कम उम्र के नर बाघों के साथ वर्चस्व की लड़ाई से बचने के लिये इसने पिछले दो साल से खुद को कोर से बफर एवं सामान्य वन मंडल क्षेत्र में शिफ्ट कर लिया था। ग्रामीण इलाकों की ओर विचरण भी शुरू किया था। मवेशियों के साथ इसने एक युवती का भी शिकार किया। इसलिये मुन्ना को अक्टूबर माह में कान्हा से भोपाल के वन विहार राष्ट्रीय उद्यान में शिफ्ट किया गया है। इससे मुन्ना की सुरक्षा के साथ ग्रामवासियों की भी सुरक्षा सुनिश्चित हुई है।

मुन्ना का जन्म वर्ष 2002 में हुआ था। पार्क में इसका नाम टी-17 था, जिसे पर्यटकों और गाईड ने प्यार से ‘मुन्ना” कर दिया था। बलवान मुन्ना जंगल में बड़ी आसानी से शिकार करता था। इसको कभी किसी ने घायल नहीं देखा। पर्यटकों के बीच यह अपने अच्छे स्वभाव के लिये भी जाना जाता था। कान्हा से भोपाल के सफर के दौरान मुन्ना शांत रहा और वन विहार में भी शांत भाव से रह रहा है।

कान्हा के क्षेत्र संचालक श्री एल. कृष्णमूर्ति के मुताबिक कोई सन्देह नहीं है कि मुन्ना ने कान्हा में एक वास्तविक राजा की तरह राज किया। वह वन्य-प्राणी संरक्षण का प्राकृतिक राजदूत है, जिसने बाघ बचाओ मुहिम के लिये बहुत बड़ी संख्या में लोगों को प्रेरित किया। आज कान्हा का हर व्यक्ति उसे बहुत मिस कर रहा है।(todayindia)(kamalnath)(madhyapradesh news)(madhyapradesh samachar)