संतों के मार्गदर्शन में बनाया जायेगा चरित्र निर्माण का वातावरण

दुनिया में आध्यात्मिक शांति भारत ही दे सकता है
मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं श्री अमित शाह कुण्डलपुर में महामस्तकाभिषेक कार्यक्रम में हुए शामिल

भोपाल : शनिवार, जून 18, 2016
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सरकार संतों के मार्गदर्शन में प्रदेश में ऐसा वातावरण बनायेगी, जिससे लोगों का चरित्र निर्माण हो और प्रदेश का विकास तेज गति से हो। श्री चौहान आज दमोह जिले के जैन तीर्थ कुण्डलपुर में महामस्तकाभिषेक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर विशेष रूप से उपस्थित भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि दुनिया में आध्यात्मिक शांति भारत ही दे सकता है, जिसका पूरा श्रेय हमारे संतों और ऋषि-मुनियों को जाता है। इस मौके पर वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, सांसद एवं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष श्री नंदकुमार सिंह चौहान, सांसद श्री प्रहलाद पटेल एवं बुंदेलखण्ड विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री रामकृष्ण कुसमरिया उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कुण्डलपुर में बड़े बाबा भगवान आदिनाथ और छोटे बाबा आचार्य मुनि विद्या सागर महाराज के दर्शन से एक नई ऊर्जा मिलती है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में हमारा प्रयास है कि संत समाज के सन्मार्ग और सदइच्छा पर काम हो। हम प्रदेश में ऐसा वातावरण बनाना चाहते हैं, जिससे युवाओं का चरित्र निर्माण हो। उन्होंने बताया कि पाठ्यक्रम में नैतिक शिक्षा को शामिल किया जायेगा। गौ-संवर्धन और नशा-मुक्ति का अभियान चलाया जा रहा है। पिछले 4 वर्ष में एक भी नई शराब की दुकान प्रदेश में नहीं खोली गयी। बेटियों को बचाने का अभियान चलाया जा रहा है। श्री चौहान ने बताया कि व्यापार बढ़ाने के लिये विज्ञापन में स्त्रियों के चित्रों के इस्तेमाल पर रोक लगाने पर भी सरकार विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार संतों की प्रेरणा से पर्यावरण और नदियों को बचाने के लिये काम कर रही है। नर्मदा तट के चारों ओर फलदार पौधे लगाये जायेंगे और इसके लिये सरकार किसानों को मुआवजा भी देगी।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि आज देश और प्रदेश में ऐसी सरकार है, जो हर व्यक्ति तक सुख पहुँचाने और उसका जीवन-स्तर ऊँचा उठाने का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारे संत-मुनियों की भी यही इच्छा है। श्री शाह ने कहा कि सरकार भौतिक विकास के साथ आध्यात्म को भी साथ लेकर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की वही दिशा है जो हमारे संतों की अपेक्षा है। श्री शाह ने कहा कि आज हमारे देश में जितने भी धर्म-सम्प्रदाय हैं, इन्हें मानव हित में संरक्षित और संवर्धित करने का कार्य हमारे आचार्य, ऋषि-मुनियों ने किया है। उन्होंने कहा कि आज जरूरत है कि हम उनके बताये मार्ग पर चलकर एक ऐसा विकास लोगों को दें, जिसमें खुशहाली हो।

जैन तीर्थ कुण्डलपुर पहुँचकर मुख्यमंत्री श्री चौहान एवं श्री अमित शाह ने बड़े बाबा भगवान आदिनाथ के दर्शन और पूजा-अर्चना की। उन्होंने आचार्य मुनिश्री विद्यासागर महाराज को शास्त्र भेंट किया और पाद-प्रक्षालन किये। महामस्तकाभिषेक स्वागत समिति ने श्री चौहान एवं श्री अमित शाह का अंगोछा और प्रतीक-चिन्ह भेंट कर स्वागत किया।
courtesy