रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने “ निवारण” पोर्टल शुरू किया

30 June 2016
रेल भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज यानी 2016/06/30 औपचारिक रूप से निवारण पोर्टल शुरू किया। ये पोर्टल सेवारत कर्मचारियों और पूर्व रेल कर्मचारियों की सेवा संबंधी शिकायतों के समाधान के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली है।

इस अवसर पर राज्य रेल मंत्री श्री मनोज सिन्हा, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एके मित्तल, रेलवे स्टॉफ बोर्ड के सदस्य श्री प्रदीप कुमार, अन्य रेलवे बोर्ड के सदस्यों और वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद थे। रेलवे महासंघ और संघ के प्रतिनिधि भी मौजूद थे।

इस अवसर पर रेल मंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने कहा कि हम जनता की शिकायतों के निवारण के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं। हमने पहले ही जनता की शिकायतों के निवारण के लिए पोर्टल शुरू किया था। यह एक वाह्य शिकायत निवारण पोर्टल है। ये पोर्टल रेलवे कर्मचारियों के काम की वजह से सफल है। आज हम रेलवे कर्मचारियों की शिकायत निवारण के लिए पोर्टल शुरू कर रहे हैं। ये नई पहल रेलवे कर्मचारियों व पूर्व रेल कर्मचारियों की आंतरिक शिकायत निवारण के लिए एक पोर्टल है और भविष्य में हम क्षेत्रीय भाषाओं में भी इस पोर्टल को शुरू करेंगे।

उन्होंने आगे कहा कि हम इस पोर्टल की मदद से प्रतिक्रिया एकत्र कर प्रणाली में सुधार करने की कोशिश करेंगे।

इस अवसर पर रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि ये काफी अच्छी पहल है और इस शिकायत निवारण पोर्टल द्वारा रेलवे कर्मचारियों और पूर्व रेलवे कर्मचारियों की शिकायतों का शीघ्र निपटारा किया जा सकेगा। उन्होंने ये भी कहा कि इस पोर्टल के शुरू होने से रेलवे कर्मचारियों और पूर्व रेलवे कर्मचारियों को अपनी शिकायतों के जल्द समाधान होने से संतुष्टि होगी।

शुरू की गई सेवा की मुख्य विशेषताएः-

रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने संगठन में मानव शक्ति के महत्व और उसे संभाले रखने पर बहुत जोर दिया है। क्योंकि ‘समर्पित कर्मचारियों हमारी सबसे बड़ी ताकत हैं। उनकी कड़ी मेहनत भारतीय रेल को चलाती है। वह व्यक्तिगत रूप से लीक से हटकर मानव संसाधन के निर्देशों में हस्तक्षेप करने के पक्षधर है। जैसे सीधे कर्मचारियों तक पहुंच के लिए उनके जन्मदिन पर कार्ड के जरिए। आज उनके निर्देशों के तहत रेल मंत्रालय सेवारत रेल कर्मचारियों और पूर्व रेल कर्मचारियों की शिकायतों के निपटारे के लिए एक मौलिक ऑनलाइन प्रणाली ‘निवारण’ शुरू कर पाया है।

रेलवे देश में 1.3 लाख से अधिक मजबूत कार्यबल के साथ अकेला सबसे बड़ा कर्मचारी नियोक्ता रहा है और कर्मचारियों के मामलों के समाधान के लिए संरचित बहु स्तरीय व्यापक उद्यम तंत्र है। ये ऑनलाइन प्रणाली कर्मचारियों को अपनी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए और उनकी प्रगति पर नजर रखने की भी सुविधा देती है। ये प्रणाली शिकायत के मामले में निर्णय संतोषजनक नहीं पाए जाने पर उच्च अधिकारी को अपील के लिए सुविधा भी प्रदान करेगी। इस प्रणाली में शीर्ष नियंत्रक प्राधिकरण भी क्षेत्रीय कार्यालयों द्वारा भेजी गई शिकायत निवारण की प्रगति की निगरानी करने में सक्षम हो जाएगा।

ये एप्लीकेशन भारतीय रेलवे की आईटी शाखा सीआरआईएस द्वारा विकसित की गई है। रेलवे बोर्ड के स्थापना निदेशालय द्वारा ये एप्लीकेशन डिजाईन की गई है। ये निदेशालय कर्मचारियों के मामलों, कम्प्यूटरीकरण तकनीकी मार्गदर्शन और सूचना प्रणाली प्रबंधन करता है।
courtesy