मध्यप्रदेश सरकार सोलर पम्प के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ राष्ट्र को देगी अंतर्राष्ट्रीय विनोबा भावे पुरस्कार

मुख्यमंत्री कमल नाथ द्वारा केन्द्रीय पुलिस प्रशिक्षण अकादमी में सौर संयंत्र परियोजना का शिलान्यास
मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि मध्यप्रदेश सरकार सोलर पंप के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ काम करने वाले राष्ट्र को विनोबा भावे अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार देगी। मुख्यमंत्री नाथ ने आज केन्द्रीय पुलिस प्रशिक्षण अकादमी में 650 किलोवाट क्षमता के सौर संयंत्र का शिलान्यास करते हुए यह घोषणा की।(todayindia)(latest news)(breaking news)(national news)(bollywood news)(cricket news)(sports news)(political news)

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि 27 साल पहले रियो में ग्लोबल वार्मिंग पर अंतर्राष्ट्रीय अर्थ समिट में जब वे केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री के रूप में शामिल हुए थे, तब उन्होंने अपने वक्तव्य में बढ़ते तापमान पर चिंता व्यक्त करते हुए गैर पारंपरिक ऊर्जा को बढ़ावा देने की बात कही थी। साथ ही इसके लिए एक कोष बनाने की भी मांग की थी। उस वक्त इस सबसे बड़े शिखर सम्मेलन में, जहाँ 127 देश के राष्ट्र प्रमुख भाग ले रहे थे किन्तु इस मुद्दे पर कोई पहल नहीं हुई थी। उस वक्त कोई भी इस विषय पर बात करने को तैयार नहीं था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2002 तक लोगों में सौर ऊर्जा के प्रति कोई दिलचस्पी नहीं थी। । उस समय सौर ऊर्जा से बिजली उत्पादन महँगा था। उन्होंने कहा कि आज स्थिति बदली है। आज जिस संयंत्र की स्थापना पुलिस अकादमी में होने जा रही है उसकी बिजली मात्र 1 रुपये 38 पैसे में उपलब्ध होगी। अब सौर ऊर्जा के क्षेत्र में क्रांति आई है। हमारे सामने अगली सबसे बड़ी चुनौती सौर ऊर्जा के भंडारण की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस दिशा में काम कर रही है। प्रदेश में बड़े पैमाने पर पड़त भूमि उपलब्ध है, जिसका उपयोग हम सौर ऊर्जा के भंडारण के लिए करेंगे।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि हम सौर ऊर्जा का बड़े पैमाने पर उपयोग ग्रामीण क्षेत्र विशेषकर कृषि क्षेत्र में करने जा रहे हैं। सरकार का प्रयास है कि कृषि क्षेत्र में अधिक से अधिक गैर पारंपरिक ऊर्जा का उपयोग हो। इससे हम पर्यावरण के साथ ही खेती-किसानी के लिए पर्याप्त बिजली उपलब्ध करवायेंगे और कई स्तरों पर होने वाले व्यय को कम कर सकेंगे।

मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों से हम सिर्फ बिजली ही नहीं बल्कि रोजगार भी बड़ी मात्रा में उपलब्ध करवा सकेंगे। उन्होंने कहा कि इससे आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ेंगी, जो अंतत: लोगों को रोजगार उपलब्ध करवाएंगी।(todayindia)(latest news)(breaking news)(national news)(bollywood news)(cricket news)(sports news)(political news)

नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री हर्ष यादव ने कहा कि पिछले छ: माह में हर क्षेत्र में हुआ बदलाव आज नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में भी दिखाई दे रहा है। श्री यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए न केवल नीतियों में परिवर्तन किया है बल्कि नई सोच के साथ पूरे विभाग का मार्गदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसके जरिए हम लोगों को सस्ती बिजली उपलब्ध करवा सकेंगे। श्री यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने 2 लाख सोलर पंपों के साथ प्रदेश के 20 ब्लॉकों में सौर परियोजना स्थापित करने के निर्देश दिये हैं। इस निर्णय से प्रदेश में गैर पारंपरिक ऊर्जा स्रोत में एक नई क्रांति की शुरुआत होगी, जो रोजगार और प्रदेश के विकास की एक समृद्ध तस्वीर गढ़ेगी। श्री यादव ने कहा कि प्रदेश में हमारी सरकार सोलर पंपों पर 60 प्रतिशत सब्सिडी दे रही है। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश ने केन्द्र सरकार से वर्तमान में दी जा रही 30 प्रतिशत की सब्सिडी को बढ़ाकर 45 प्रतिशत करने का आग्रह किया है।

अंतर्राष्ट्रीय सोलर एलायंस के महानिदेशक ने की 2 लाख सोलर पंप लगाने की सराहना

विश्व बैंक के प्रतिनिधि एवं अंतर्राष्ट्रीय सोलर एलायंस के महानिदेशक श्री उपेन्द्र त्रिपाठी ने मध्यप्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश में 2 लाख सोलर पंप लगाने के मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के निर्णय की सराहना की।
श्री त्रिपाठी ने कहा कि श्री नाथ का यह निर्णय निश्चित ही वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत को विकसित करने के लिए किए जा रहे प्रयासों को प्रोत्साहित करेगा। उन्होंने मध्यप्रदेश में नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में किए जा रहे काम को भी संतोषप्रद बताया। उन्होंने कहा कि अगर पूरी प्रतिबद्धता के साथ सौर ऊर्जा के क्षेत्र में काम किया गया, तो निश्चित ही हमें इसके बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सौर ऊर्जा के अनुकूल वातावरण बनाने के लिए मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ से उनकी चर्चा हुई है। उन्हें पूरा विश्वास है कि प्रदेश इस दिशा में बेहतर काम करेगा।

सौर संयंत्र की स्थापना से होगी 57 लाख की बचत

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा आज जिस सौर संयंत्र परियोजना का शिलान्यास किया गया है, उसकी क्षमता 650 किलोवाट है। संयंत्र से प्रतिवर्ष लगभग 9 लाख 50 हजार यूनिट विद्युत का उत्पादन होने की संभावना है। उत्पादित बिजली 1 रुपये 38 पैसे प्रति यूनिट की दर से संस्थान को उपलब्ध होगी। इससे संस्थान को पहले वर्ष में ही लगभग 57 लाख रुपये की बचत होगी। परियोजना के लिए क्लेनेट सोलर के चेयरमेन श्री राजीव शुक्ला और केन्द्रीय पुलिस प्रशिक्षण अकादमी के डायरेक्टर श्री पवन श्रीवास्तव ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए।

प्रारंभ में प्रमुख सचिव नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा श्री मनु श्रीवास्तव ने प्रदेश में गैर पारंपरिक ऊर्जा के क्षेत्र में सरकार की नई नीतियों के बारे में जानकारी दी। पुलिस महानिदेशक श्री वी.के. सिंह उपस्थित थे।(todayindia)(latest news)(breaking news)(national news)(bollywood news)(cricket news)(sports news)(political news)