प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिला शिल्पकारों की समृद्धि के लिए लोगों से मेला-प्रदर्शनियों में उनके उत्पाद खरीदने का आग्रह किया

(todayindia),Headlines,Latest News,Breaking News,Cricket ,Bollywood news,today india news,today india,narendra modi,hunar haat
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिला शिल्पकारों की समृद्धि के लिए लोगों से मेला-प्रदर्शनियों में उनके उत्पाद खरीदने का आग्रह किया | प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि भारत की विविधता देश के हर व्‍यक्ति को गर्व और प्रसन्‍नता से भर देती है। आकाशवाणी पर मन की बात कार्यक्रम की 62वीं कड़ी में देशवासियों के साथ अपने विचार साझा करते हुए उन्‍होंने कहा कि यह एक फूल है जिससे प्रेरणा मिलती है।

प्रधानमंत्री ने दिल्‍ली के हुनर हाट के अपने हाल के दौरे का उल्‍लेख करते हुए कहा कि यह देश की विशालता, संस्‍कृति, परम्‍पराओं, खान-पान और भावनाओं की विविधता का दर्पण है। इस हाट में प्रदर्शित पारम्‍परिक वस्‍त्र, हस्‍तशिल्‍प कृतियां, कालीन, बर्तन, बांस तथा पीतल के उत्‍पाद और संगीत वाद्य यंत्र समूचे भारत की कला तथा संस्‍कृति की अनोखी झलक प्रस्‍तुत करते हैं। उन्‍होंने कहा कि इन शिल्‍पकारों की साधना, लगन और अपने हुनर से प्रेम की कहानियां बहुत प्रेरणादायक हैं। प्रधानमंत्री ने भारत को जानने और महिला शिल्पकारों की समृद्धि के लिए लोगों से मेला-प्रदर्शनियों में उनके उत्पाद खरीदने का आग्रह किया।

श्री मोदी ने कहा कि हुनर हाट में एक दिव्‍यांग महिला की बात सुनकर उन्‍हें बड़ा संतोष हुआ। उस महिला ने बताया कि वह पहले फुटपाथ पर अपनी पेंटिंग बेचा करती थी, लेकिन हुनर हाट से जुड़ने के बाद उसकी दुनिया बदल गई। अब वह न केवल आर्थिक रूप से आत्‍मनिर्भर बन गई है बल्कि उसने अपना घर भी खरीद लिया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्‍हें हुनर हाट में कई शिल्‍पकारों से बात करने का मौका मिला। उन्‍होंने कहा कि हुनर हाट के माध्‍यम से लगभग तीन लाख हस्‍तशिल्पियों को रोजगार के अवसर मिले हैं। श्री मोदी ने कहा कि लोगों को ऐसी प्रदर्शनियों को देखना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने नागरिकों के फिट रहने पर जोर देते हुए कहा कि फिट देश ही हिट होता है। उन्‍होंने कहा कि हमारे देश में साहसपूर्ण खेलों के लिए असीमित अवसर हैं। श्री मोदी ने लोगों से अपील की कि वे अपनी रूचि के अनुसार ही किसी साहसपूर्ण गतिविधि को चुनें।

प्रधानमंत्री ने बारह साल की काम्‍या कार्तिकेयन का जिक्र करते हुए कहा कि उसने माउंट एगोनकागुआ को फतेह कर एक महत्‍वपूर्ण उपलब्धि हासिल की। यह दक्षिण अमरीका में एक पर्वत श्रृंखला की सबसे ऊंची चोटी है, जिसकी ऊंचाई लगभग सात हजार मीटर है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इन दिनों बच्‍चों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रति लगातार रूचि बढ़ रही है। अंतरिक्ष में बड़ी संख्‍या में उपग्रहों का प्रक्षेपण और नये-नये अभियान हर देशवासी को गर्व से भर देते हैं। श्री मोदी ने कहा कि चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण के दौरान बेंगलूरू में उन्‍होंने वहां उपस्थिति बच्‍चों में अनोखा उत्‍साह देखा। उन्‍होंने श्रीहरिकोटा में उस विजिटर गैलरी का जिक्र किया जहां से रॉकेट प्रक्षेपण का नजारा देखा जा सकता है। इसे अब सबके लिए खोल दिया गया है। श्री मोदी ने सभी स्‍कूलों के प्रधानाचार्यों और अध्‍यापकों से आग्रह किया कि वे इस सुविधा का लाभ उठायें।

प्रधानमंत्री ने इसरो के युवा विज्ञानी कार्यक्रम-युविका का भी जिक्र किया। उन्‍होंने कहा कि यह कार्यक्रम जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान, जय अनुसंधान के अनुरूप है। इस कार्यक्रम में विद्यार्थी अपनी छुट्टियों के दौरान इसरो के विभिन्‍न केन्‍द्रों में जाकर विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अंतरिक्ष के बारे में जानकारी हासिल करते हैं।

प्रधानमंत्री ने बताया कि पिछले महीने लद्दाख की खूबसुरत वादियां एक ऐतिहासिक घटना की गवाह बनीं। लेह के कुशोक बाकुला रिम्‍पोची हवाई अड्डे से भारतीय वायुसेना के विमान एएन-32 ने जब उड़ान भरी तो एक नया इतिहास रचा गया। इस उड़ान में इस्‍तेमाल होने वाले ईंधन में दस प्रतिशत इंडियन बायो जेट ईंधन का मिश्रण किया गया था। उन्‍होंने कहा कि इस प्रकार के प्रयासों से जहरीली गैसों के उत्‍सर्जन में कमी आयेगी और कच्‍चे तेल के आयात पर भारत की निर्भरता कम होगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रकृति के प्रति अपार प्रेम और जीवों के लिए दया का भाव जैसी बातें हमारी सांस्‍कृतिक विरासत हैं। दुनिया भर से अलग-अलग प्रजातियों के पक्षी हर साल भारत आते हैं। उन्‍होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि अगले तीन वर्षों तक भारत प्रवासी पक्षियों पर होने वाले सम्‍मेलन की अध्‍यक्षता करेगा। उन्‍होंने इस अवसर को उपयोगी बनाने के लिए सुझाव भी मांगे।(todayindia),Headlines,Latest News,Breaking News,Cricket ,Bollywood news,today india news,today india,narendra modi,hunar haat
=============
courtesy