जाट आरक्षण आंदोलन का दिखने लगा असर, इंटरनेट सेवा बंद

Jun 05 2016
चंडीगढ़: आरक्षण को लेकर 5 जून को प्रस्तावित जाटों के आंदोलन का असर दिखने लगा है। इंटरनेट सेवा बंद होने लगी है। इसकी शुरूआत सोनीपत से हुई है। सरकार ने एक आदेश जारी कर सोनीपत में इंटरनेट सेवा पर बैन लगा दिया। किसी भी तरह के तनाव, झगड़े की आशंका या संपत्ति को नुकसान रोकने के लिए इंटरनेट सहित टू-जी, थ्री जी, फोर जी, एज सहित जीपीआरएस सेवाएं बंद कर दी गई हैं।

जाट समुदाय केआंदोलन की आशंका को देखते हुए हरियाणा के सात जिलों में धारा-144 के तहत लागू कर दी गई, ताकि हालात को काबू किया जा सके। इस दौरान कोई भ्रामक अफवाहें नहीं फैलाई जा सकें, इसे ध्यान में रखते हुए अन्य प्रभावित जिलों में इन सेवाओं पर रोक लगाई जा रही हैं।
झूठी सूचना और अफवाहों के कारण फरवरी में प्रदेश के हिंसा की चपेट में आईं। इंटरनेट सहित सोशल मीडिया पर रोक लगाए जाने से वाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर का दुरुपयोग नहीं किया जा सकेगा। सीआरपीसी 1973 की धारा 144 के तहत दी गई शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिला मजिस्ट्रेट के एम पांडुरंग ने अगले आदेश तक इसे जारी रखने के निर्देश दिए हैं।
courtesy

One thought on “जाट आरक्षण आंदोलन का दिखने लगा असर, इंटरनेट सेवा बंद”

  1. सरकार को fair but firm की policy अपनानी चाहिए. कोई भी सरकार आन्दोलन कारियों द्वारा blackmail नहीं होनी चाहिए.
    जाटों को समझाना होगा कि वे देश का वैसा ही हिस्सा हैं जैसे और लोग.
    वीरेन्द्र कुमार गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *