चीन से क्या कनेक्शन है, कांग्रेस को देश की जनता को बताना पड़ेगा: शिवराजसिंह चौहान

shivrajsingh chouhan,mpcm,chiefminister of madhyapradesh,todayindia,todayindianews,todayindia news in hindi,Headlines,Latest News,Breaking News,Cricket ,Bollywood news,today india news,today india
चीन से क्या कनेक्शन है, कांग्रेस को देश की जनता को बताना पड़ेगा: शिवराजसिंह चौहान छत्तीसगढ़ की वर्चुअल रैली में मुख्यमंत्री ने बताई मोदी सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां
भोपाल। अभी कांग्रेस और चीन के रिशतों के बारे में जो रहस्योदघाटन हुआ है, उससे पता चला है कि कांग्रेस की राजीव गांधी फाउंडेशन ने वर्ष 2005-06 में चीन से 90 लाख रुपये का डोनेशन लिया है। कांग्रेस का चीन से क्या समझौता था? किस बात के पैसे लिए? राहुल गांधी चुपके-चुपके चीनी दूतावास में क्या करने जाते हैं? कांग्रेस का चीन से क्या कनेक्शन है? इन सब बातों का जवाब कांग्रेस को देश की जनता को देना पड़ेगा। जो कांग्रेस खुद तो चीन के सामने आत्मसर्मण करे और हमें राष्ट्रभक्ति सिखाए, धिक्कार है ऐसी कांग्रेस पर। कांग्रेस के एक परिवार के कारण ही देश की 43 हजार वर्ग कि.मी. जमीन आज चीन के कब्जे में है इसलिए इस परिवार के लोगों को देश की सुरक्षा पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को छत्तीसगढ़ की वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए कही। रैली को छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह, राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी डॉ. अनिल जैन, राज्यसभा सदस्य डॉ. सरोज पांडे, प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदेव साय आदि ने भी संबोधित किया। रैली में अजजा आयोग के अध्यक्ष श्री रामविचार नेताम, केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह, नेता प्रतिपक्ष श्री धर्मलाल कौशिक सहित अन्य नेता व कार्यकर्ता शामिल हुए।


चीन और 370 जैसी समस्याएं नेहरू सरकार की देन

वर्चुअल रैली को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि चीन के साथ सीमा विवाद और 370 जैसी समस्याओं के लिए पूर्व प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेसियों में अगर हिम्मत है, तो आंख मिलाकर बात करें। चीन को संयुक्त राष्ट्रसंघ की स्थायी सदस्यता दिलाने की वकालत नेहरू जी ने की थी। बाद में जब चीन भारत की सीमा में घुस आया, तब उन्हें पता ही नहीं चला। चीन ने युद्ध के बाद जब हमारी 43 हजार वर्ग कि.मी. जमीन दबा ली, तो पं. नेहरू और उनके रक्षा मंत्री ने संसद में कहा था- क्या करते उस बंजर जमीन के टुकड़े का, जिस पर घास तक नहीं ऊगती। श्री चौहान ने कहा कि कश्मीर में धारा 370 लगाकर एक देश में दो निशान, दो विधान का प्रावधान भी पं. नेहरू ने ही किया था, जिसे अब मोदी सरकार ने हटाया है।

हमारे लिए देश जमीन का टुकड़ा नहीं

श्री चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के लिए देश जमीन का टुकड़ा नहीं है, बल्कि जैसा कि स्व. अटलजी ने कहा था-वो एक जीवित राष्ट्रपुरुष है और हम जान देकर भी उसकी रक्षा करेंगे। उन्होंने कहा कि इस बार जब चीन भारत से उलझा, तो वह यह भूल गया था कि ये 1962 वाला भारत नहीं है, ये मोदी जी का नया भारत है। मोदी जी ने कहा था कि हम किसी को छेड़ेंगे नहीं और कोई हमें छेड़ेगा, तो हम छोड़ेंगे नहीं। जब चीन के सैनिकों ने दुस्साहस किया, तो हमारे सैनिक बिना हथियारों के ही उनसे भिड़ गए और उनकी गर्दनें तोड़ दीं। श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस की सरकारों ने चीन की सीमा पर सड़कें बनाने की हिम्मत नहीं की, अब मोदी जी की सरकार ने पूरी सीमा पर सड़कें बनवा दी हैं, जिससे चीन बौखला गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता चीन के सामने मिमियाते रहते थे, लेकिन आज चीन के साथ विवाद में दुनिया के कई देश भारत के साथ हैं।


मोदी सरकार ने हल किए बरसों पुराने मुद्दे

श्री चौहान ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी जनसंघ के जमाने से धारा 370 का विरोध करती रही है। लेकिन इसके बारे में लोग यह मानने लगे थे कि यह सिर्फ एक नारा है, 370 हटेगी नहीं। लेकिन प्रधानमंत्री श्री मोदी और गृह मंत्री श्री अमित शाह ने एक झटके में धारा 370 हटा दी और लोग सोचते रह गए। श्री चौहान ने कहा कि देश की मुस्लिम बहनों को तीन तलाक का कलंक राजीव गांधी की कांग्रेस सरकार ने दिया था। शाह बानो प्रकरण में राजीव गांधी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को कानून बनाकर पलट दिया। अब मोदी सरकार ने मुस्लिम बहनों को इस कुप्रथा से मुक्ति दिलाई है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश में हिन्दू, सिख, बौद्ध, ईसाई और पारसी अल्पसंख्यक बरसों तक प्रताड़ना सहते रहे, इनके लिए कांग्रेस ने कुछ नहीं किया। लेकिन जब मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून बनाकर इन्हें देश की नागरिकता देने का प्रावधान किया, तो कांग्रेस ने उस कानून का विरोध करने का पाप जरूर किया। श्री चौहान ने कहा कि इसी तरह राम मंदिर के मुद्दे को भी लोग चुनावी मुद्दा कहने लगे थे। लेकिन मोदी जी की सरकार आने के बाद तेजी से इस मुद्दे पर सुनवाई हुई, सुप्रीम कोर्ट ने झटपट फैसला सुनाया और अब मंदिर का काम शुरू हो गया है।


कोरोना संकट में किया सफल नेतृत्व

श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के काल में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने देश का सफल नेतृत्व किया और वे एक वैश्विक नेता के रूप में उभरे हैं। उन्होंने कहा कि 20 मार्च को प्रधानमंत्री श्री मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाकर इस खतरे के प्रति आगाह किया। उन्होंने पूरे देश को साथ में लेते हुए 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाया और 24 मार्च से लॉकडाउन शुरू हो गया। श्री चौहान ने कहा कि लॉकडाउन लगाने से लेकर हटाने तक के बीच में प्रधानमंत्री श्री मोदी ने 6-6 बार सभी मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई और संघवाद का सही उदाहरण प्रस्तुत किया। इन बैठकों में कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी होते थे, जो बैठक में सहमति जताते थे, लेकिन बाहर इनके नेता राहुल गांधी लॉकडाउन पर सवाल उठाते थे। श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान प्रधानमंत्री जी ने गरीबों के लिए खजाना खोल दिया। उन्होंने गैस सिलेंडर, राशन और खातों में पैसे भी दिये। 1.70 लाख करोड़ का गरीब कल्याण पैकेज दिया और 20 लाख करोड़ के आत्मनिर्भर भारत अभियान की घोषणा की। ऐसे में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को और कांग्रेस के अन्य मुख्यमंत्रियों को यह बताना चाहिए कि उन्होंने गरीबों के लिए क्या किया? श्री चौहान ने कहा कि छत्तीसगढ़ में क्वारेंटाइन सेंटर में लोग आत्महत्या के लिए मजबूर हो रहे हैं, इससे लग रहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बंटाढार के दूसरे संस्करण बनते जा रहे हैं।
courtesy
===========
shivrajsingh chouhan,mpcm,chiefminister of madhyapradesh,todayindia,todayindianews,todayindia news in hindi,Headlines,Latest News,Breaking News,Cricket ,Bollywood news,today india news,today india




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *