केन्‍द्र ने लोगों से कोरोना वायरस के संक्रमण के जोखिम का आकलन करने के लिए आरोग्‍य सेतू ऐप डाउनलोड करने का आग्रह किया

केन्‍द्र ने लोगों से कोरोना वायरस के संक्रमण के जोखिम का आकलन करने के लिए आरोग्‍य सेतू ऐप डाउनलोड करने का आग्रह किया
सरकार ने कहा है कि देशभर में कुल 30 लाख लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने सभी नागरिकों से इस ऐप को डाउनलोड करने का आग्रह किया है। यह मोबाइल ऐप लोगों को नोवल कोरोना वायरस के संक्रमण के लिए जोखिम का स्वयं आकलन करने में समर्थ बनाता है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने आज नई दिल्ली में संवाददाताओं को बताया कि देश में संक्रमित लोगों की संख्या 2301 हो गयी है। इनमें से 157 लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गयी है, जबकि 56 लोगों की मृत्यु हुई है। श्री अग्रवाल ने कहा कि पिछले दो दिन के दौरान 14 राज्यों से ऐसे 647 लोगों में वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है, जिन्होंने नई दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज़ में तबलीगी जमात में भाग लिया था। उन्होंने कहा कि इन मामलों से देश में संक्रमण की पुष्टि वाले लोगों की संख्या बढ़ी है।

श्री अग्रवाल ने कहा कि कृषि मंत्रालय सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए ई-नाम को प्रोत्साहन दे रहा है, ताकि किसान अपने उत्पाद ऑनलाइन बेच सकें। उन्होंने कहा कि अब देश में 585 मंडियां ई-नाम से जुड़ गयी हैं और भविष्य में 415 मंडियों को इससे जोड़ने का कार्य प्रगति पर है।

श्री अग्रवाल ने कहा कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन स्वास्थ्यकर्मियों के लिए बायोसूट विकसित कर रहा है। स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों पर हमलों पर चिंता प्रकट की है और लोगों से आग्रह किया है कि वे स्वास्थ्यकर्मियों की ड्यूटी में बाधा उत्पन्न न करें।

गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा कि केंद्र ने राज्यों से स्वास्थ्य देखभालकर्मियों को सुरक्षा उपलब्ध कराने को कहा है। केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों से आग्रह किया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के लाभ जल्द से जल्द लाभार्थियों को उपलब्ध कराए जाएं।

गृह मंत्रालय ने 960 विदेशियों को प्रतिबंधित सूची में डाला है, जो तबलीगी जमात में शामिल हुए थे। उन पर आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा विदेशी अधिनियम के प्रावधानों के तहत कड़ी कार्रवाई की जाएगी। संयुक्त सचिव ने कहा कि इन लोगों को मानक प्रोटोकॉल के तहत प्रत्यर्पित किया जाएगा। उन 360 लोगों को भी प्रतिबंधित सूची में डालने की प्रक्रिया शुरु की गयी है, जो तबलीगी जमात में शामिल हुए थे और अपने देश चले गये।

सुश्री श्रीवास्तव ने कहा कि सभी पुलिस महानिदेशकों और पुलिस आयुक्तों को आपदा प्रबंधन अधिनियम और विदेशी अधिनियम के तहत वीज़ा शर्तों का उल्लंघन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने को कहा गया है। उन्होंने बताया कि सात मौजूदा हेल्पलाइनों के अलावा दो नये हेल्पलाइन नम्बर शुरू किये गये हैं। ये नम्बर हैं–1930. इस नम्बर पर देशभर से टोलफ्री सम्पर्क किया जा सकता है। दूसरा नम्बर है–1944. यह नम्बर पूर्वोत्तर राज्यों के लोगों के लिए शुरू किया गया है।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के डॉक्टर मनोज ने कहा कि नोवेल कोरोना वायरस की जांच के लिए 182 प्रयोगशालाओं को अनुमति दी गयी है। इनमें से 130 सरकारी और 52 निजी क्षेत्र की प्रयोगशालाएं हैं। डॉक्टर मनोज ने कहा कि कल आठ हज़ार नमूनों की जांच की गयी, जो अब तक की सर्वाधिक संख्या है। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 66 हज़ार नमूनों की जांच की गयी है। डॉक्टर मनोज ने कहा कि जांच में तेज़ी लाने से संबंधित दिशा-निर्देश कल जारी किये जाएंगे।
=============
courtesy