आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिये यथासंभव लोकल का प्रयोग करें

shivrajsingh chouhan,mpcm,chiefminister of madhyapradesh,todayindia,Headlines,Latest News,Breaking News,Cricket ,Bollywood news,today india news,today india
आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिये यथासंभव लोकल का प्रयोग करें
विशेषज्ञों का समूह बनाए योजना
मुख्यमंत्री चौहान ने “आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश” संबंधी बैठक लीमुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि ‘आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश’ बनाने के लिए यथासंभव ‘लोकल’ का प्रयोग करें। भारत सरकार के आत्मनिर्भर भारत मिशन को मध्यप्रदेश की स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप चलाया जाए। विशेषज्ञों का समूह बनाए जाकर उनके सुझावों के आधार पर ‘आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश’ की विस्तृत योजना बनाई जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश संबंधी बैठक ले रहे थे। बैठक में स्कूल ऑफ गुड गवर्नेंस के महानिदेशक श्री आर.परशुराम, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव श्री मनीष रस्तोगी उपस्थित थे।

किसानों को सही दाम मिले

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस प्रकार की योजना बनाई जानी चाहिए कि किसानों को उनके उत्पादों का सही दाम मिले। कृषि विपणन को बेहतर बनाए जाने की आवश्यकता है। कृषि में विविधता आए। किसान ऐसी फसल लें जो उन्हें अच्छी आमदनी दिलवाए। एग्रीकल्चर पैटर्न को बेहतर बनाया जाए। छोटे किसानों को अधिक से अधिक लाभ मिले। कोल्ड स्टोरेज की सुविधा बढ़े।

भारत सरकार के पैकेज का पूरा लाभ लें

मुख्यमंत्री ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत घोषित विशेष पैकेज का पूरा लाभ प्रदेश को दिलाने के लिए तत्परता से कार्य किया जाए। छोटे कारोबारियों के लिए 10 हजार के ऋण तथा उस पर 7 प्रतिशत ब्याज अनुदान योजना का लाभ उन्हें दिलाया जाए।

वन एवं आदिवासियों का विकास

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की वन संपदा तथा आदिवासी बहुलता को देखते हुए इस प्रकार की योजना बनाई जाए जो वन एवं आदिवासियों का विकास करे।

लोकल प्रोडक्ट्स को बढ़ावा दें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश कि लोकल प्रोडक्ट्स जैसे चंदेरी साड़ियां, बाघ प्रिंट आदि को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। गांव-गांव में छोटे एवं कुटीर उद्योग कैसे खड़े हो सकते हैं यह देखा जाए।

रीयल सिंगल विंडो बने

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा एवं नए उद्योगों की स्थापना के लिए सिंगल विंडो सिस्टम सही मायने में सिंगल विंडो बने। प्रदेश की आवश्यकता के अनुरूप अलग-अलग सैक्टर में उद्योग स्थापित किए जाएं।

ग्रामीण विकास की अवधारणा बदलें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमें ग्रामीण विकास की अवधारणा को बदलना होगा। ग्रामों का विकास इस प्रकार किया जाना होगा, जिससे वहां ग्रामीणों की आवश्यकता के अनुरूप वस्तुओं का निर्माण हो और ग्रामीणों को शहर न जाना पड़े।

शिक्षा व स्वास्थ्य सेवाओं का सुधार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गाँवों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शिक्षा व स्वास्थ्य सेवाओं का सुधार करना होगा, जिससे गाँवों में ही अच्छी शिक्षा व अच्छी स्वास्थ्य सेवा मिल सके। ग्रामों के समूह बनाकर उनके बीच उच्च शैक्षणिक गुणवत्ता के विद्यालय खोले जाएं।

सुशासन संस्थान को आदर्श बनाएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान को आदर्श बनाया जाए तथा यह सुशासन, नीति एवं योजनाएं बनाने में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाए। इसमें विभिन्न क्षेत्रों के देश-दुनिया के विशेषज्ञों की सेवाएं ली जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *