अपराधियों के विरूद्ध सघन अभियान चलायें-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

 

भोपाल : बुधवार, अक्टूबर 26, 2016
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में आदतन अपराधियों, गुण्डों और माफिया स्मगलरों के विरूद्ध सघन अभियान चलायें। बेटियों और महिलाओं के लिये प्रदेश को सबसे सुरक्षित प्रदेश बनायें। जनता की सेवा और प्रदेश के विकास के लिये जुटकर काम करें। आम जनता की जिंदगी में बदलाव लाने के लिये काम करें। कलेक्टर और एस.पी. जनता के प्रति जवाबदारी से काम करें और सुशासन को साकार करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ कलेक्टर्स-एस.पी. की संयुक्त कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में कानून-व्यवस्था की स्थिति की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि अवांछित गतिविधियों पर कड़ी नजर रखें। किसी भी कीमत पर आतंकवाद से जुड़ी गतिविधियों को पनपने नहीं दें। जेलों की सुरक्षा पर कड़ी निगरानी रखें। कलेक्टर और एस.पी. सुनिश्चित करें कि बिना अनुमति के नये धार्मिक स्थल नहीं बनाये जायें। समाज को बाँटने वाली प्रवृत्तियों को रोके। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जन-कल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन कर लोगों को लाभ दिलायें।

सायबर अपराधों के बारे में लोगों को जागरूक करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सायबर आतंकवाद से निपटने के लिये पुलिस सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के साथ मिलकर एडवांस टेक्नालॉजी की व्यवस्था करें। सायबर अपराधों के संबंध में लोगों में जागरूकता लायें। सैन्य संस्थानों से समन्वय रखें। हवाई पट्टियों की सुरक्षा के पर्याप्त प्रबंध करें। प्रत्येक जिले में क्राइसिस मैनेजमेंट प्लान की समय-समय पर समीक्षा की जाये। आपदा के समय समन्वय से उपचार और सुरक्षा व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाये। विस्फोटक लायसेंस और भंडारण की नियमित और लगातार चेकिंग की जाये। अवैध रूप से विस्फोटकों का भण्डारण नहीं हो, यह सुनिश्चित करें।

समाज की भागीदारी से सुरक्षा व्यवस्थाएं करें

जिलों में विशिष्ट तथा अति विशिष्ट अतिथियों के आगमन के पहले विधिवत रिहर्सल की जाये तथा सुरक्षा के सभी मानकों का पालन किया जाये। त्यौहारों के दौरान समाज की भागीदारी से सुरक्षा व्यवस्थाएँ की जायें। नागरिकों के मन में विश्वास रहे कि राज्य सरकार उनके साथ है। प्रशासन सही समय पर सही कदम सबको विश्वास में लेकर दृढ़ता से उठायें। पिछले दिनों त्यौहारों के दौरान सभी जिलों ने समन्वय से बेहतर काम किया है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि समाजों के बीच आपसी विवादों के निराकरण के लिये प्रभारी मंत्री पहल करें। भूमि अधिग्रहण के लंबित प्रकरणों में प्राथमिकता से कार्रवाई करें।

सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन सख्ती से

मुख्यमंत्री ने कहा कि अवैध खनिज उत्खनन और परिवहन को रोकने के दौरान शासकीय कर्मियों पर हुए हमले की घटना को गंभीरता से लें और दोषियों पर सख्त कार्रवाई करें। सड़क दुर्घटनाओं को गंभीरता से लें। नशे में वाहन चलाने वालों के विरूद्ध अभियान चलाकर कार्रवाई करें। सड़क सुरक्षा के नियमों का पालन सख्ती से करवायें। अवैध आग्नेय शस्त्रों के निर्माण में लगे सिकलीगर समुदाय के पुनर्वास के लिये वैकल्पिक रोजगार की योजना बनायें। वन्य-प्राणी अपराधों की रोकथाम के लिये सख्ती से कार्रवाई करें। चिटफण्ड कंपनियों के बारे में लोगों को जागरूक करने का अभियान चलायें। लोगों से धोखाधड़ी करने वाली ऐसी कंपनियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करें।

प्रभारी मंत्री जिलों में कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करेंगे

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला बदर और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून का उपयोग अपराधों के खिलाफ प्रभावी ढंग से किया जाये। महिलाओं से संबंधित अपराधों के मामले में प्रभावी कार्रवाई की जाये। सार्वजनिक स्थलों को सुरक्षित बनायें। प्रभारी मंत्री तीन माह में एक बार अपने प्रभार के जिले में कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करें। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को नये स्वरूप में संचालित किया जायेगा। जघन्य अपराधों के मामलों में तेजी से सजा दिलाने की प्रक्रिया जारी रखी जाये।

आपदा प्रबंधन की स्थिति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी जिलों में आपदा प्रबंधन के लिये पर्याप्त संसाधन सुनिश्चित करें। सभी कलेक्टर जिलों की आवश्यकता के अनुरूप संसाधनों की मांग करें तथा आपदा प्रबंधन बल में संख्या बढ़ायें। जिन स्थानों पर विशेष अवसरों पर अधिक भीड़ एकत्रित होती है, उन स्थानों के लिये विस्तृत और अग्रिम योजना बनायें । उन्होंने कहा कि सिंहस्थ के दौरान आपदा प्रबंधन के लिये प्रशासन, पुलिस और जनता के सहयोग से अभूतपूर्व कार्य किया गया।

बेहतर काम करने वाले जिलों को बधाई

मध्यप्रदेश विष (कब्जा और विक्रय) नियम 2014 के तहत एसिड लायसेंस के प्रकरणों का ऑनलाइन निराकरण करें। अपने जिलों से अलग-अलग क्षेत्र में दिये जाने वाले पुरस्कारों के प्रस्ताव भेजें। बैठक में कानून-व्यवस्था के लिये बेहतर काम करने वाले जिलों जबलपुर, भोपाल, उज्जैन, इंदौर, ग्वालियर, सिवनी, खण्डवा, देवास, खरगोन और रतलाम जिलों के कलेक्टर और एस.पी. को मुख्यमंत्री ने बधाई दी। उन्होंने कहा कि बेहतर काम करने वाले अधिकारियों की प्रशंसा सी.आर. में भी दर्ज की जायेगी। महिला अपराधों के रोकथाम के लिये बेहतर काम करने वाले जिलों भोपाल, पन्ना, अशोकनगर, बैतूल और कटनी जिलों के कलेक्टर और एस.पी. को बधाई दी गई। इसी तरह भिण्ड जिले के कलेक्टर और एस.पी. को परीक्षाओं में नकल रोकने के लिये चलाये गये अभियान के लिये मुख्यमंत्री ने बधाई दी। बताया गया कि अनुसूचित जाति, जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत राहत के लिये खरगोन, रतलाम, दमोह और गुना जिलों में बेहतर कार्य हुआ है। बैठक में मंत्रीमंडल के सदस्य, मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, कमिश्नर, आई.जी. सहित प्रशासन और पुलिस के अधिकारी उपस्थित थे।